“सरफ़रोशी की तम्मना अब हमारे दिल में है

देखना है ज़ोर कितना बाज़ू ए क़ातिल में है “

फांसी पर चढ़ने से पहले राम प्रसाद बिस्मिल के मुंह से निकले ये शब्द आज भी देश के प्रति उनके जुनून और समर्पण को बयां करते हैं। उत्तर प्रदेश में 20 दिसंबर को काकोरी शहीद दिवस के मौके पर काकोरी कांड में शहीद हुए ऐसे ही वीरों को श्रद्धांजलि देकर उनके बलिदानों को याद किया जाएगा। इसके लिए प्रशासन ने पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर इन शहीदों की दुनिया में सबसे लंबी पेटिंग बनाने का फैसला किया है।

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर 12 किलोमीटर लंबी पेटिंग बनाई जाएगी

काकोरी कांड में वैसे तो कई क्रांतिकारी शामिल थे, लेकिन राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खां, राजेंद्र नाथ लाहिड़ी और ठाकुर रोशन सिंह मुख्य थे। अंग्रेज हूकूमत ने मुकदमा चलाने के बाद तीनों क्रांतिकारियों को फांसी की सजा सुनाई थी। इनके बलिदानों को याद करते हुए,  बीस दिसंबर को काकोरी शहीद दिवस मनाया जाता है।

डीएम अभिषेक प्रकाश के मुताबिक वीर शहीदों ने देश की आजादी के लिए जो योगदान दिया उसे शब्दों में ढाला नहीं जा सकता। देश पर बलिदान होने वाले ऐसे बहादुर क्रांतिकारियों को इस बार कुछ अलग तरीके से श्रद्धांजलि देने की कोशिश की जा रही है, जिसके लिए पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर 12 किलोमीटर लंबी एक पेटिंग बनायी जाएगी। जानकारी के अनुसार, करीब ढाई हजार कलाकारों द्वारा इस चित्र को तैयार किया जाएगा।

गिनीज बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड दर्ज हो सकता है नाम

इसके अलावा राजधानी के कई स्‍कूल और कालेजों के बच्‍चों को भी आमंत्रित किया जा रहा है। प्रशासन का दावा है कि पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे पर बनने जा रही अब तक की दुनिया की यह सबसे लंबी पेटिंग होगी। ऐसा माना जा रहा है कि इसका नाम गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल हो सकता है

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *