जरूरी बातें

केंद्र सरकार से मंज़ूरी मिलने के बाद गोरखपुर लाइट मेट्रो के पहले फेज का निर्माण किया जाएगा शुरू।
पब्लिक इन्वेस्टमेंट बोर्ड (पीआइबी) की बैठक में गोरखपुर लाइट मेट्रो के फेज-वन को मिली स्वीकृति।
साल 2024 तक निर्माण कार्य पूरा करने का निर्धारित किया गया है लक्ष्य।
4672 करोड़ रुपये की लागत से किया जायेगा गोरखपुर मेट्रो का निर्माण।
मेट्रो के लिए शहर में बनाये जायेंगे दो कॉरिडोर।

गोरखपुर में लोगों के आवागमन को बेहतर बनाने की राह में अब गोरखपुर में मेट्रो की शुरुआत होने जा रही है। केंद्र सरकार से मंज़ूरी मिलने के बाद गोरखपुर लाइट मेट्रो के पहले फेज का निर्माण शुरू किया जायेगा। पब्लिक इन्वेस्टमेंट बोर्ड (PIB) की बैठक में गोरखपुर लाइट मेट्रो के फेज-वन की स्वीकृति मिलने के बाद मेट्रो के शिलान्यास की तैयारियां शुरू हो गयीं हैं। सरकार ने बजट में भी पहले से ही गोरखपुर में मेट्रो ट्रेन के लिए 100 करोड़ रुपये की व्यवस्था कर रखी है।

गोरखपुर मेट्रो का निर्माण गोरखपुर लाइट रेल ट्रांजिट परियोजना (LRT, Gorakhpur Light Metro) के तहत किया जायेगा जिसे पूरा करने के लिए साल 2024 तक का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस प्रोजेक्ट को केंद्र सरकार द्वारा हरी झंडी मिलने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अपने ट्विटर हैंडल के ज़रिये जानकारी साझा की।

शहर में संचालित की जायेगी तीन बोगियों वाली लाइट मेट्रो

4672 करोड़ रुपये की लागत से बनने जा रही गोरखपुर मेट्रो के अंतर्गत तीन बोगियों वाली लाइट मेट्रो संचालित की जाएगी, जिसके तहत तीन कोच वाली लाइट मेट्रो के डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) को भी केंद्र द्वारा स्वीकृति प्रदान कर दी गयी है। डीपीआर के तहत शहर में मेट्रो को लोगों तक पहुंचाने के लिए कुल 27 मेट्रो स्टेशन बनाये जायेंगे और यह सारे मेट्रो स्टेशन सतह से ऊपर यानि एलिवेटेड बनाये जायेंगे।

मेट्रो के लिए बनाये जायेंगे दो कॉरिडोर

शहर में मेट्रो के लिए दो कॉरिडोर बनाये जायेंगे, जिसमें 15.14 किमी लंबा पहला कॉरिडोर श्याम नगर से मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय तक बनाया जायेगा। पहले कॉरिडोर के तहत 14 मेट्रो स्टेशनों का निर्माण किया जायेगा जिसमें शुरआत में 1.55 लाख लोग रोजाना सफर कर सकेंगे और 2041 तक यह संख्या 2.73 लाख यात्री रोजाना होने का अनुमान है।

इसके बाद मेट्रो का दूसरा कॉरिडोर 12.70 किमी लंबा होगा जो बीआरडी मेडिकल कालेज से नौसढ़ तक बनाया जायेगा। दूसरे कॉरिडोर के तहत 13 मेट्रो स्टेशनों का निर्माण किया जायेगा और इस दूसरे कॉरिडोर के शुरूआती दौर में 1.24 लाख लोग रोजाना सफर करेंगे जिसमें 2041 तक 2.19 लाख लोगों के सफर करने का अनुमान है। गोरखपुर मेट्रो शुरू होने बाद रोजाना 600 यात्री सफ़र कर सकेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *