जरुरी बातें

कोरोना के नए वेरिएंट से बचाव के लिए उत्तर प्रदेश के सभी बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन व एयरपोर्ट पर बरती जाएगी सर्तकता।
उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने वाले प्रत्येक यात्री की होगी आरटीपीसीआर जांच।
बिना मास्क के बाहर घूमने पर कटेगा चालान।
प्रदेश में जीनोम सीक्वेंसिंग की रफ्तार में लायी जाएगी वृद्धि।
पहले चरण में इंटर स्टेट कनेक्टिविटी वाले बस स्टेशनों पर बढ़ाई जाएगी जांच की रफ्तार।

पूरी दुनिया में कोरोना का नया वेरिएंट परेशानी का सबब बना हुआ है। इस नए वेरिएंट से बचाव के लिए उत्तर प्रदेश के सभी बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन व एयरपोर्ट पर अतिरिक्त सर्तकता बरती जाएगी जिसके तहत उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने वाले प्रत्येक यात्री की आरटीपीसीआर जांच होगी। बिना जांच के किसी भी यात्री को बाहर नहीं आने दिया जाएगा।

इसके अलावा प्रदेश में अगर कोई भी व्यक्ति घर से बाहर बिना मास्क के पाया गया तो उसके खिलाफ चालान की कार्रवाई की जाएगी। बीते बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने उच्चस्तरीय बैठक कर प्रदेश में मास्क को अनिवार्य करने और कोविड प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन कराने के लिए अधिकारयों को निर्देश दिए।

प्रदेश में बढ़ाई जायेगी जीनोम सीक्वेंसिंग की रफ़्तार

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से बचाव के लिए पूरे प्रदेश में जीनोम सीक्वेंसिंग की रफ्तार में वृद्धि लायी जाएगी। मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस को प्रभावी रूप से लागू करने का आदेश दिया। इसी के तहत पहले चरण में इंटरस्टेट कनेक्टिविटी वाले बस स्टेशनों पर जांच की रफ़्तार बढ़ाई जाएगी और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों से प्रदेश आने वाले यात्रियों का विवरण अधिकारीयों द्वारा उपलब्ध कराया जायेगा।

इस अभियान के तहत गौतमबुधनगर के जिलाधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया गया है। लखनऊ के केजीएमयू , पीजीआई, गोरखपुर, झांसी, मेरठ में तेजी से जीनोम सीक्वेंसिंग की व्यवस्था भी करी जायेगी।

प्रदेश में 16 करोड़ से अधिक लोगों को लग चुकी है वैक्सीन।

अब तक प्रदेश में 11 करोड़ 23 लाख लोगों को टीके की पहली ख़ुराक मिल चुकी है और 5 करोड़ 3 लाख से अधिक लोगों को टीके की दोनों ख़ुराक देकर कोरोना का सुरक्षा कवर प्रदान किया गया है। प्रदेश में अब तक 16 करोड़ 27 लाख से अधिक लोगों को वैक्सीन दोनों डोज दी जा चुकी हैं। आने वाले समय में जो व्यक्ति रह गए हैं, उन्हें वैक्सीन दी जाएगी ताकि कोरोना के नए स्वरुप से बचाव हो सके।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *