शहर के लोगों के लिए नए रोमांच की शुरुआत करते हुए, कानपुर के गंगा बैराज में स्थापित बोट क्लब का संचालन जल्द ही शुरू हो जाएगा। कथित तौर पर, क्लब को मंगलवार को 21 नावें मिलीं, और अगस्त के अंत तक 30 से अधिक नाव यहां पंहुचेंगी। हालांकि बोट क्लब 2019 में स्थापित किया गया था, लेकिन नावों की डिलीवरी में देरी के कारण संचालन की प्रतीक्षा की जा रही थी। अब यह उम्मीद की जा सकती है कि बोच क्लब जल्द ही शुरू हो जाएगा और शहर में वाटर स्पोर्ट्स के लिए नए रास्ते खुल जाएंगे।

कानपुर में आयोजित होंगे राष्ट्रीय जल क्रीड़ा प्रतियोगिताएं


क्षेत्रीय आयुक्त और बोट क्लब के सचिव ने मिलकर सुविधा में किए जा रहे विकास का निरीक्षण किया। रिपोर्ट के अनुसार, जल क्रीड़ा प्रतियोगिताओं और लोगों के प्रशिक्षण के लिए संसाधनों को बढ़ाने के उद्देश्य से इस बोट क्लब को शुरू किया जा रहा है। इस केंद्र पर सभी सेवाएं शुरू होने के बाद कानपुर के विकास में एक नया आयाम जुड़ जाएगा। इसके अलावा, गंगा बैराज कई धार्मिक और सांस्कृतिक आकर्षणों का केंद्र बन जाएगा।

कथित तौर पर, यह उम्मीद की जा रही है कि फरवरी 2022 में कानपुर से प्रयागराज तक 5 दिवसीय गंगा जल रैली का आयोजन किया जाएगा। इसके अलावा, यह अनुमान है कि जल्द ही कानपुर में राष्ट्रीय जल क्रीड़ा टूर्नामेंट की कल्पना वास्तविकता में बदल जाएगी।

यह योजना 2007 में केडीए के एक अधिकारी द्वारा प्रस्तावित की गई थी


रिपोर्ट के अनुसार, सुविधा के रखरखाव और प्रशासन के लिए 2 सदस्यीय समिति का गठन किया गया है, जिसमें बोट क्लब के सचिव भी शामिल हैं। कथित तौर पर, यह परियोजना 2007 में कानपुर विकास प्राधिकरण के एक अधिकारी द्वारा प्रस्तावित की गई थी और यह कहा गया था कि पर्यटन विभाग, भारत सरकार इसे फंड देगी।

2010 में यह निर्धारित हुआ कि इसका वित्त पोषण क्षेत्रीय संसाधनों द्वारा किया जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सुविधा का विकास 2014 में बॉटनिकल गार्डन परियोजना में शामिल किया गया था, और सिंचाई विभाग को इसे स्थापित करने की जिम्मेदारी दी गई थी। एक लंबा सफर तय करते हुए, परियोजना को अंतिम रूप दिया गया जब 2016 में बोट क्लब का पंजीकरण हुआ और 2019 में निर्माण कार्य पूरा हो गया।