उत्तर प्रदेश शिक्षा विभाग ने कक्षा 9 और 11 के सभी छात्रों को वार्षिक परीक्षा परिणाम के आधार पर आगे प्रमोट करने के दिशानिर्देश जारी किए हैं। आदेशों के अनुसार, यदि वार्षिक परीक्षाएं नहीं कराई गयी हैं तो टेस्ट और प्रोजेक्ट जैसे इंटरनल असेसमेंट के आधार पर परिणाम घोषित किये जाएंगे। यदि इस तरह की परीक्षाएं, टेस्ट या प्रोजेक्ट पूरे वर्ष नहीं हुए हैं, तो छात्रों को ऐसे ही सीधा प्रमोट कर दिया जाएगा।

कक्षा 6 से 8 तक के छात्रों का सीधे होगा प्रमोशन

जिला विद्यालय निरीक्षक, डॉ मुकेश कुमार सिंह ने पुष्टि की कि शिक्षा विभाग के आदेश के तहत, जूनियर कक्षाओं, कक्षा 6 से 9वीं के छात्रों को परीक्षा के बिना ही सीधे आगे प्रमोट कर दिया जाएगा। हालांकि, लखनऊ, कानपुर और यूपी के अन्य जिलों में कक्षा 9 और 11 में छात्रों को प्रमोट करने के लिए के लिए एक मूल्यांकन प्रोटोकॉल स्थापित किया गया है।

प्रमोशन के लिए जो क्रम तैयार किया गया है, वह यह है की वार्षिक परीक्षा के परिणाम के अनुसार और कोई परीक्षा न होने की स्थिति में इंटरनल असेसमेंट के आधार पर छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया जाएगा। यदि कोई आकलन नहीं किया गया है तो सामान्य प्रमोशन के निर्देशों का पालन किया जाएगा। ये निर्देश सभी स्कूलों, सभी बोर्ड के तहत लागू होंगे।

हालांकि, यदि किसी बोर्ड या शिक्षा परिषद ने विशेष रूप से नियम बनाए हैं, तो वे राज्य के आदेश पर आधारित होंगे। राज्य ने जिला स्तरीय समितियों को कक्षा 6, 7, 8, 9 और 11 के लिए निर्धारित प्रक्रियाओं के संबंध में किसी भी शिकायत को देखने का भी काम सौंपा है। इससे पहले, सभी प्रथम वर्ष के यूजी और पीजी छात्रों के लिए एक बुनियादी प्रमोशन के आदेश भी राज्य भर के सभी विश्वविद्यालयों में जारी किये गए थे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *