उत्तर प्रदेश के यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में प्रस्तावित फिल्म सिटी के लिए हॉलीवुड की प्रसिद्ध कंपनी सीबीआरई की तरफ से बनाए गए डीपीआर पर यूपी सरकार ने मुहर लगा दी है। प्रदेश सरकार ने यमुना अथॉरिटी को फिल्म सिटी के लिए तीन महीने में ग्लोबल टेंडरिंग की प्रक्रिया प्रारंभ करने का निर्देश दिया है। यीडा (YEIDA) सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने सीबीआरई को ग्लोबल टेंडरिंग प्रक्रिया शुरू करने के लिए खत लिखा है। दिसंबर तक यूपी में देश की सबसे आधुनिक फिल्म सिटी को बनाने के लिए ग्लोबल टेंडर जारी कर दिया जाएगा। वहीं टीम 9 की बैठक में सीएम ने फिल्म सिटी का काम भी तेजी से आगे बढ़ाने को कहा है।

फिल्म सिटी को विकसित करने के लिए सीबीआरई ने 3 मॉडल डीपीआर में सुझाए थे। सरकार ने हाइब्रिड मॉडल पर विकसित करने के लिए ग्लोबल टेंडरिंग प्रक्रिया अपनाने को कहा है। यमुना अथॉरिटी के सेक्टर 21 में 1000 एकड़ में फिल्म सिटी को विकसित किया जाना है। हाइब्रिड मॉडल में यीडा को 100 करोड़ रुपये वार्षिक किराया और आमदनी में हिस्सेदारी दोनों को रखा गया है। इसमें वार्षिक प्रीमियम कंपनी 10 साल के बाद देगी, जबकि लाभ में हिस्सेदारी जल्दी मिलना शुरू हो जाएगी। कंपनी के साथ 40 साल का एग्रीमेंट होगा। कंपनी को लीज के बजाय लाइसेंस दिया जाएगा। तीन चरणों में डिवेलप होने वाली फिल्म सिटी के फर्स्ट फेज में फिल्म स्टूडियो, खुला एरिया, एम्यूजमेंट पार्क, विला आदि तैयार किए जाएंगे।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने बीते साल दिसंबर में एक विश्वस्तरीय फिल्म सिटी का निर्माण राज्य में करने का फैसला किया था। जिसके तहत नोएडा में यमुना प्राधिकरण के सेक्टर 21 में 1,000 एकड़ भूमि इंटरनेशनल फिल्म सिटी के लिए चिन्हित की गई है। करीब पांच हजार करोड़ रुपए का निवेश आने की संभावना इस फिल्म सिटी के निर्माण से जताई जा रही है। नोएडा में बनायी जाने वाली इस फिल्म सिटी में विश्वस्तरीय आधुनिक तकनीकों को शामिल किया जाना है। फिल्म शूटिंग के लिए बनाए जाने वाले इंफ्रास्ट्रक्चर को इस तरह से बनाया जाएगा, ताकि लोग इसे देखने आ सकें। यहां पर कॉमन फैसिलिटी सेंटर भी बनेगा जहां फिल्म से जुड़ी हुई सारी सुविधाएं मिलेंगी। फिल्म से जुड़े लोग एक छत के नीचे जरूरत की सभी सुविधाएं पा सकेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *