उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अपनाए गए व्यापक सामाजिक और व्यवहार परिवर्तन संचार (Social and Behaviour Change Communication) के एक हिस्से के रूप में, ‘दस्तक’ नामक पहल 1 जुलाई से शुरू की जा रही है। स्वास्थ्य कर्मियों को ट्रेन करने और उनके बीच संपर्क को मजबूत करने के लिए यह पहल शुरू की जा रही है। इस योजना का उद्देश्य नागरिकों को संक्रमण और अन्य बीमारियों से बचाना है। जानकारी के अनुसार, मुख्य उद्देश्य इंसेफेलाइटिस, मलेरिया, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों के प्रसार को कम करना है।

ग्रामीण स्तर पर चिकित्सा सेवाओं को अपग्रेड किया जा रहा है

वर्तमान समय के मेडिकल ढांचे को मजबूत करने के लिए, स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारियों को आवश्यक व्यवस्था करने के लिए आपसी सहयोग बनाये रखने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा, राज्य स्तर पर ट्रेनिंग कार्यक्रम लागू किए जा रहे हैं और ग्रामीण स्तर पर चिकित्सा सेवाओं को अपग्रेड किया जा रहा है।

इसके अतिरिक्त, परियोजना के लिए खंड विकास अधिकारियों (बीडीओ), जिला पंचायत राज अधिकारियों, जिला स्कूल निरीक्षकों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों और सभी विभागों के अधिकारियों को लगाया गया है। उन्हें यह ध्यान रखने के निर्देश दिए हैं कि उनके आपसी सहयोग से अभियान को सफलतापूर्वक लागू किया जाए।

बुखार, वेक्टर और पानी में उत्पन्न होने वाले रोगों से लड़ने के लिए राज्य का प्रयास

मौसमी बुखार, वेक्टर और पानी में उत्पन्न होने वाली बीमारियों से निपटने के लिए, देश भर में 73000 निगरानी समितियां कार्य कर रही हैं। इसके अलावा, 4 लाख अधिकारी बीमारियों के खिलाफ आम जनता के बीच जागरूकता फैलाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। इसके अलावा, आशा कार्यकर्ताओं, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, एएनएम और ग्राम प्रधानों को ग्रामीण निवासियों को पानी में उत्पन्न होने वाली और वेक्टर में होने वाली बीमारियों के प्रति सचेत करने का आदेश दिया गया है।

उत्तर प्रदेश में 3,011 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी) और 855 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों (सीएचसी) में इन बीमारियों के उचित इलाज और उपचार के लिए पर्याप्त सुविधाएं तैयार की जा रही हैं। शहरी क्षेत्रों के 592 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में 24 घंटे सेवाएं उपलब्ध रहेंगी, वहीं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में भी आपातकालीन जरूरतों को पूरा करने के लिए बुखार के क्लीनिक स्थापित किए गए हैं।`

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *