मुख्य बिंदु

उत्तर प्रदेश सरकार ने केंद्र की 'स्वदेश दर्शन योजना' के तहत राज्य के विरासत स्थानों के बुनियादी ढांचे को बढ़ाने का फैसला किया है।

➡यह कदम पर्यटन को बढ़ावा देने और ऐतिहासिक स्थलों का संरक्षण करने के दोहरे उद्देश्यों के साथ लिया गया है।

➡केंद्रीय प्रशासन द्वारा क्षेत्र में स्मारकों के सुधार और उन्नयन के लिए 33.17 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई है।

➡बांदा जिले में कालिंजर किला सहित पूरे क्षेत्र में ऐतिहासिक स्थलों की एक श्रृंखला का जीर्णोद्धार किया जाएगा।

➡मुजफ्फरनगर में शहीद स्थल चौरी चौरा (गोरखपुर) और स्लोम चौपाल की संरचनाओं मेरठ में शहीद स्मारक को भी इस बहाली अभियान के माध्यम से सुधारा जाएगा।

पर्यटन को बढ़ावा देने और ऐतिहासिक स्थलों का संरक्षण करने के दोहरे उद्देश्यों के साथ, उत्तर प्रदेश सरकार ने केंद्र की 'स्वदेश दर्शन योजना' के तहत विरासत स्थानों के बुनियादी ढांचे को बढ़ाने का फैसला किया है। इस परियोजना के तहत, केंद्रीय प्रशासन द्वारा क्षेत्र में स्मारकों के सुधार और उन्नयन के लिए 33.17 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई है। अब इस राशि का उपयोग राज्य की स्वर्णिम विरासत के प्रतीक इन पुरातन इमारतों के सौंदर्यीकरण के लिए किया जाएगा।

पहल के तहत 1500 साल पुराने कालिंजर किले का होगा जीर्णोद्धार


राज्य सरकार उत्कृष्ट भवनों के जीर्णोद्धार के अलावा इन स्थानों पर पर्यटकों की सुरक्षा को मजबूत करने के उपाय भी करेगी। एक सरकारी प्रतिनिधि द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, बांदा जिले में कालिंजर किला सहित पूरे क्षेत्र में ऐतिहासिक स्थलों की एक श्रृंखला का जीर्णोद्धार किया जाएगा। कालिंजर किला ,देश के सबसे बड़े किलों में से एक के रूप में जाना जाता है और कई शासकों और राजवंशों के साक्षी के रूप में लगभग 15 शताब्दियों से खड़ा है।

इसके अलावा, मुजफ्फरनगर में शहीद स्थल चौरी चौरा (गोरखपुर) और स्लोम चौपाल की संरचनाओं को भी इस बहाली अभियान के माध्यम से सुधारा जाएगा। इसके अलावा, मेरठ में शहीद स्मारक, जो 1857 के विद्रोह के दौरान मारे गए लोगों की याद दिलाता है, को भी अपग्रेड किया जाएगा।

युवा पीढ़ियों के लिए राज्य की विरासत को संरक्षित करने की दिशा में एक कदम


प्रमुख सचिव पर्यटन मुकेश मेश्राम ने कहा, "उम्मीद है कि इस माह के अंत तक सभी स्थलों पर चल रही परियोजनाओं पर काम पूरा हो जाएगा। किसी देश और राज्य की विरासत और उससे जुड़े महापुरुष वहां के लोगों,खासकर युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

जहां सरकार ने इस बड़े पैमाने पर संरक्षण कार्यक्रम के लिए कदम आगे बढ़ाया है, वहीं राज्य की समृद्ध विरासत की रक्षा का दायित्व नागरिकों पर भी है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम हर बार जब हम इन स्मारकों का दौरा करें तो स्वच्छता सुनिश्चित करें और इसके बारे में जागरूकता फैलाएं।