ग्रामीण उत्तर प्रदेश में शिक्षा के स्तंभों को मजबूत करने के लिए सरकार कई प्रयास कर रही है। इसी सिलसिले में,राज्य प्रशासन ने प्रारंभिक बाल्यावस्था बाल शिक्षा योजना के लिए लगभग 1,70,896 आंगनवाड़ी केंद्रों को नोडल पॉइंट के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया है। ये स्कूल युवा छात्रों के लिए संसाधनों की व्यवस्था करने के लिए पुस्तिकाओं और प्रीस्कूल किट से सुसज्जित होंगे।

यह कदम एक संरचित दृष्टिकोण के माध्यम से ग्रामीण आबादी के बीच स्कूली शिक्षा के लिए एक बेहतर वातावरण तैयार करेगा। कथित तौर पर, केंद्र इसे आगे बढ़ाने के लिए बच्चों के लिए मूल्यांकन कार्ड भी प्रदान करेंगे।

यूपी में एक उन्नत, समान शिक्षा प्रणाली को बढ़ावा देना


नई शिक्षा नीति 2020 की छत्रछाया के तहत, उत्तर प्रदेश राज्य ने पहले ही राज्य के 44 जिलों में लगभग 1,06,128 आंगनवाड़ी केंद्रों पर बच्चों को प्री-स्कूल किट वितरित की है। रिपोर्ट के अनुसार, एजेंडा को आगे बढ़ाने और 3-6 साल के बच्चों के लिए उनकी उम्र के अनुसार कहानी की किताबें उपलब्ध कराने के लिए नेशनल बुक ट्रस्ट को शामिल किया गया है। ट्रस्ट एक्टिविटी पर आधारित लर्निंग के तरीके को बढ़ावा देने के लिए केंद्रों के नियमित क्षेत्र के दौरे में भी लगा हुआ है।

उनके अलावा, एकीकृत बाल विकास सेवा (आईसीडीएस) को भी इस योजना में शामिल किया गया है ताकि आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए ईसीसीई (Early Childhood Children Education) मैनुअल तैयार किया जा सके। 'पहल' के रूप में जाना जाने वाला, यह दस्तावेज़ राज्य के दृष्टिकोण के अनुसार, ईसीसीई गतिविधियों को व्यवस्थित रूप से सुनिश्चित करने के लिए केंद्रों में अधिकारियों का मार्गदर्शन करता है।

राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) द्वारा विकसित पाठ्यक्रम के अनुसार 'पहल' पर हस्ताक्षर किए गए हैं और इसे सभी 44 जिलों में वितरित किया गया है। पैनल के प्रत्येक केंद्र में एक समान शिक्षा प्रणाली की सुविधा होगी। साथ ही इन 44 जिलों के केंद्रों को 3-6 साल के बच्चों के हाफ इयरली मूल्यांकन के लिए रिपोर्ट कार्ड भी जारी किए गए हैं।

प्रारंभिक शिक्षा के बुनियादी ढांचे में सुधार

एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार आंगनबाडी केंद्र भवन का कायाकल्प किया जाएगा। छात्रों के लाभ के लिए मनरेगा, पंचायती राज, और बाल विकास और पोषण विभाग के विभागों को एकजुट करने के लिए इस अपग्रेड को टाल दिया गया है।

इसके लिए यूपी प्रशासन ने इन आँगनबाड़ी केंद्रों की नवीनीकरण योजना शुरू की है। अब तक चार साल में करीब 10,187 आंगनबाडी केन्द्रों का लक्ष्य रखा गया है और इसमें से 8,820 आंगनबाडी केन्द्रों का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है। शेष 1,367 भवनों का निर्माण कार्य चल रहा है।