उत्तर प्रदेश में महामारी की चिंता को बढ़ाते हुए, कोविड संक्रमण के कप्पा वैरिएंट के कारण संत कबीर नगर में एक 66 वर्षीय व्यक्ति की मृत्यु हो गयी है। देवरिया और गोरखपुर में डेल्टा प्लस के दो नए मामलों का पता चलने के तुरंत बाद इस म्यूटेशन की पता लगाया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, जीनोम अनुक्रमण अभ्यास के दौरान कप्पा वैरिएंट का पता चला था।

कोरोना के तेजी से बदलते स्वरूप ने लोगों में डर पैदा किया



स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कप्पा म्युटेंट पर चिंता जताई है और इसे चिंताजनक स्थिति घोषित किया है। अधिकारियों का मानना ​​है कि राज्य में वायरस अपना रूप बदल रहा है क्योंकि पहले बताए गए 3 मामलों में से किसी का भी यात्रा इतिहास नहीं था। सीएसआईआर के इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी, नई दिल्ली को सैंपल भेजे जाने के बाद यूपी के व्यक्ति में कप्पा स्ट्रेन का पता चला।

रिपोर्ट के अनुसार, रोगी ने 27 मई को पॉजिटिव टेस्ट किया और फिर उसे 12 जून को मेडिकल कॉलेज भेजा गया। उसका सैंपल 13 जून को नियमित रूप से एकत्र किया गया और नई दिल्ली यूनिट को भेजा गया। बीआरडी मेडिकल कॉलेज में माइक्रोबायोलॉजी विभाग के प्रमुख अमरेश सिंह ने बताया कि 14 जून को इलाज के दौरान मरीज की मौत हो गई। उसकी कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं थी।