भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने अब कागज के आधार कार्ड बनाने की सेवा को बंद कर दिया है। अब अगर आपका आधार कार्ड खो जाए या फट जाए, और दोबारा अपना आधार कार्ड चाहते हैं तो आपको कागज के लम्बे आधार कार्ड की जगह अब पीवीसी - पॉलीविनाइल क्लोराइड (Polyvinyl chloride) का आधार कार्ड मिलेगा। यह पॉलीविनाइल क्लोराइड आधार कार्ड आपके एटीएम, पैन कार्ड, वोटर कार्ड की तरह ही एक स्मार्ट कार्ड होगा, जिसे आप आसानी से अपनी जेब में रख सकते हैं और यह ख़राब भी नहीं होगा। यह पीवीसी कार्ड वाला आधार कार्ड आपको फ़िलहाल रीप्रिंट कराने पर ही मिलेगा। नया आधार रजिस्ट्रेशन या आधार अपडेट कराने पर कागज का आधार ही मिलेगा।

पीवीसी - पॉलीविनाइल क्लोराइड के लिए देना होगा 50 रूपये का शुल्क


अगर आपको पीवीसी आधार कार्ड चाहिए तो आपको https://uidai.gov.in/ या फिर https://residentpvc.uidai.gov.in/order-pvcreprint.php पर जाकर रीप्रिंट आधार के विकल्प पर जाकर आवेदन कर सकतें हैं। यहां आवेदन करने के बाद आपको 50 रुपये का शुल्क देना होगा और आपका कार्ड स्पीड पोस्ट के जरिए आपके पते पर आ जाएगा। इस कार्ड में कई सुरक्षा फीचर है, कार्ड पर QR कोड, फोटो और आपकी जनसांख्यिकी (Demography) जानकारी दर्ज होती है।

सावधान, बाहर से प्रिंट न कराएं स्मार्ट आधार कार्ड


आपने अक्सर देखा होगा की जगह जगह स्मार्ट आधार कार्ड बनवाने की सुविधाएं दी जा रही हैं जहां आप जाकर स्मार्ट कार्ड बनवा सकतें हैं। लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें की प्लास्टिक आधार कार्ड कभी भी बाहर से प्रिंट न करवाएं। कई लोग प्लास्टिक पर आधार कार्ड 100 से 150 रुपये में प्रिंट करके तुरंत देते हैं। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) के अधिकारीयों के अनुसार बाहर से प्लास्टिक आधार कार्ड पर आधार प्रिंट न करवाएं, क्यूंकि इस तरह छपे कार्ड पर कोई भी सुरक्षा फीचर नहीं होते हैं। इस तरह के आधार कार्ड में वास्तविक क्यूआर कोड प्रिंट नहीं होता है और जब आप सत्यापन के लिए जाएंगे तो यह कार्ड फेल हो जाएगा। ऐसे में इस तरह के कार्ड कतई न बनवाएं। पीवीसी - पॉलीविनाइल क्लोराइड कार्ड बनवाने के लिए सीधा (UIDAI) की वेबसाइट पर ही आवेदन करें।