जरूरी बातें

दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे करीब 1380 किलोमीटर लंबा 8 लेन वाला देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेसवे है।
ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे साल 2023 तक बनकर तैयार होगा।
एक्सप्रेसवे के निर्माण में 98,000 करोड़ रुपये तक का खर्च आएगा।
यह एक्सप्रेसवे 8-लेन कॉरिडोर और 4 अतिरिक्त लेनों (कुल 12) तक विस्तारित किया गया है।।
मुंबई में जवाहरलाल नेहरू पोर्ट से शुरू होकर यह एक्सप्रेसवे 1,380 विभिन्न मार्गों से जुड़ेगा जिसके बाद दिल्ली में डीएनडी फ्लाईओवर पर इसकी समाप्ति होगी।

देश की सबसे बड़ी परियोजनाओं में से एक दिल्ली-मुंबई ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे, देश को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से वित्तीय राजधानी मुंबई से जोड़ेगा। 1380 किलोमीटर क्षेत्रफल में निर्माणाधीन 8-लेन का यह एक्सप्रेसवे देश का अब तक का सबसे बड़ा एक्सप्रेसवे बनेगा। इस एक्सप्रेसवे के संचालन के बाद दिल्ली और मुंबई जाने वाले यात्रियों के यात्रा का समय आधे से भी काम हो जायेगा जिस कारण इस पूरी यात्रा में लगने वाला समय 12.5 घंटों के करीब होगा। इस ग्रीनफ़ील्ड एक्सप्रेसवे की साल 2023 में शुरू होने की संभावना है लेकिन उससे पहले हम आपको दिखाएंगे निर्माणाधीन दिल्ली-मुंबई ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे की पहली झलक।

मुंबई में जवाहरलाल नेहरू पोर्ट से शुरू होने वाला यह एक्सप्रेसवे 1,380 विभिन्न मार्गों से जोड़ा जायेगा जिसके बाद दिल्ली में डीएनडी (DND) फ्लाईवे पर इसकी समाप्ति होगी। देश की सबसे महत्वाकांक्षी परियोजनाओं में से एक, इस दिल्ली-मुंबई ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण में लगभग 98,000 करोड़ रुपये तक का ख़र्च आएगा।

भारत के 5 राज्यों से होकर गुज़रने वाला यह एक्सप्रेसवे हरियाणा (80 किमी), राजस्थान (380 किमी), मध्य प्रदेश (370 किमी), गुजरात (300 किमी) और महाराष्ट्र (120 किमी) को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से जोड़ेगा।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (Ministry of Road Transport and Highways of India) के अनुसार यह एक्सप्रेसवे दिल्ली-फरीदाबाद-सोहना के रास्ते एनसीआर (NCR) के शहरी क्षेत्रों से भी मिलेगा।

भविष्य में बढ़ते यातायात को मद्देनज़र रखते हुए इस एक्सप्रेसवे को 8-लेन कॉरिडोर और 4 अतिरिक्त लेनों (कुल 12) तक विस्तारित किया गया है।

इस एक्सप्रेसवे के मार्ग के किनारे नई औद्योगिक टाउनशिप (Industrial Township) और स्मार्ट सिटी बनाने की योजना तैयार करी गयी है। लगभग 50 किमी के अंतराल पर सड़क के दोनों तरफ़ 92 सुविधाएं भी निर्धारित करी गयीं हैं।

दिल्ली-मुंबई ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे का संचालन शुरू होने के बाद वाहनों को 120 किमी प्रति घंटे की गति से चलने की अनुमति दी जाएगी, जिससे मुंबई और दिल्ली के बीच यात्रा का समय 24 घंटे काम हो कर 12.5 घंटे का हो जायेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *