सर्दियां आ रही हैं और साथ ही लखनऊ की सर्दियों की मनमोहक दावत। जबकि शहर में पारा गिरने पर खाने के लिए कई व्यंजन हैं, मलाई मक्खन की तुलना में कुछ भी नहीं है।

मक्खन मलाई लखनऊ की सबसे प्रसिद्ध मीठे व्यंजनों में से एक है। इसकी ख़ासियत है की यह हल्की मुलायम और मीठी होती है जो कुछ ही समय में आपके मुंह में पिघल जाती है। लखनऊ शहर की यह बादल जैसी मक्खन मलाई जो की सर्दी की विशेषता है,अब एक बार फिर शहर के चौक इलाके में उपलब्ध है। हमने इस स्वादपूर्ण मक्खन का एक चम्मच चखने के लिए चौक का दौरा किया और यह हमेशा की तरह एक अद्भुत अनुभव साबित हुआ।

दूध, मलाई और बहुत प्रकार के अलग अलग स्वादों के मिश्रण से बनी मक्खन मलाई के हर दंश में लखनवी स्वाद और नज़ाकत है। केवल सर्दियों में उपलब्ध इस व्यंजन का मौसम के साथ एक अनोखा संबंध है।

मक्खन मलाई कैसे बनती है?

मक्खन मलाई एक विस्तृत प्रक्रिया द्वारा बनाई जाती है जिसमें कोमलता और धैर्य की आवश्यकता होती है। मलाई से मक्खन निकालने के लिए एक आदिम ब्लेंडर में हाथों को खींचकर एक लयबद्ध गति बनाई जाती है। यह प्रक्रिया दूध को ताजा, हांथों से बने मक्खन में बदल देती है। अतिरिक्त स्वाद जोड़ने के लिए, चीनी, इलायची पाउडर और पीले रंग मक्खन के उप्परी भाग पर छिड़का जाता है।

सर्दियों की इस मशहूर पेशकश की तैयारी में अंतिम चरण में इसे रात भर उबाला जाता है, ताकि सभी सामग्री एक स्वाद एक साथ मिश्रित हो जाएं। भोर के समय, इसे सांस लेने के लिए छोड़ दिया जाता है और सुबह की ओस में जब यह सेट होने दिया जाता है, जिससे इसमें एक विशेष स्वाद जुड़ता है।

लखनऊ में कहां मिलेगा?

लखनऊ में मक्खन मलाई व्यापक रूप से उपलब्ध है। हालांकि सबसे अच्छा, चौक में ऐतिहासिक गोल दरवाजा के पास पाया जा सकता है। प्रामाणिक मक्खन मलाई लखनऊ के पुराने हिस्सों जैसे अमीनाबाद, नखास और चौक में भी उपलब्ध है।

मक्खन मलाई क्यों इतनी ख़ास है?

लखनवी मक्खन मलाई में शहर की नफ़ासत (कोमलता) के तत्वों के साथ आने वाले पुरानीयत का आकर्षण निहित है। जो स्वाद रहता है वह स्वर्ग की झलक देता है, जिसकी हम कामना करते हैं कि वह लंबा हो सके। यदि आप सर्दियों के लिए लखनऊ में मौजूद हैं या यहां एक स्थानीय निवासी हैं, तो अपने दोस्तों और परिवार के साथ मक्खन मलाई खाइये क्यूंकि सर्दियां अब दस्तक़ दे रही हैं और उनके साथ लखनऊ में दावत का माहौल बन रहा है।

Join the Conversation

1 Comment

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *