मुख्य बिंदु

लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में बीते शनिवार 16 अक्टूबर से 15 दिवसीय खादी महोत्सव का आगाज हुआ।

उत्तर प्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड की ओर से आयोजित महोत्सव में 200 से अधिक स्टॉल लगाए गए हैं।

जिसमें से करीब 40 स्टॉल रेशम विभाग के हैं।

यहां प्रदेश के विभिन्न जनपदों के उत्कृष्ट उत्पादों का प्रदर्शन किया जा रहा है। 

यहाँ आपको घर की सजावट से लेकर पहनने ओढ़ने तक के सर्वाधिक उत्पाद मिलेंगे।

आने वाले दिवाली के त्यौहार से पहले खरीदारी के लिए खादी महोत्सव एक आदर्श स्थान है।

देश की आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर उत्तर प्रदेश में भी लगातार आयोजन हो रहे हैं। इसी के अंतर्गत लखनऊ में मंगलवार से 15 दिवसीय खादी महोत्सव व सिल्क एक्सपो -2021 का आयोजन किया जा रहा है। लखनऊ के गोमती नगर स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में बीते शनिवार 16 अक्टूबर से 15 दिवसीय खादी महोत्सव का आगाज हुआ।

उत्तर प्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड की ओर से आयोजित महोत्सव में 200 से अधिक स्टॉल लगाए गए हैं, जिसमें से करीब 40 स्टॉल रेशम विभाग के हैं। यहां प्रदेश के विभिन्न जनपदों के अलावा दूरदराज से आए उद्यमियों द्वारा अपंने उत्कृष्ट उत्पादों का प्रदर्शन किया जा रहा है।

खादी महोत्सव में आप क्या क्या खरीदारी कर सकते है ?

सहारनपुर के लकड़ी से बने बर्तन और नक्काशीदार फर्नीचर, पहनावा ग्रामोद्योग, देहरादून के डिज़ाइनर कोटी और सदरी, मुज़फ्फरनगर के चादर और तौलिये, सपना ग्रामोद्योग प्रतापगढ़ के अचार और मुरब्बा। जूट से निर्मित उत्कृष्ट तकनीकी के थैले, लेडीज पर्स, खादी की शर्ट, कुर्ते और पायजामा, सदरी, कोट सहित विभिन्न प्रकार के उत्पाद स्टॉल पर प्रदर्शित किये गए हैं।

इसके साथ ही घर की सजावट के लिए हस्तशिल्प निर्मित पेंटिंग, सजावट के लिए डिज़ाइनर लाइट, पर्दे, भदोही की कालीन, हस्तशिल्प निर्मित मिटटी के डिज़ाइनर मूर्तियां, मार्बल से बनी हस्तशिल्प कलाकृतियां मौजूद है जो खादी महोत्सव में आकर्षण का केंद्र है।

खादी महोत्सव में सबसे ज्यादा आकर्षण साड़ियों के स्टॉल पर है, जहां विशेष तौर पर महिलाओं की भीड़ अधिक देखने को मिलती है। सिल्क साड़ी, बनारसी साड़ी, रेशम की साड़ी, कढ़ाई वाली साड़ी समेत सलवार सूट आकर्षक दामों पर विभिन्न स्टॉल्स पर मौजूद है और महिलाएं जमकर खरीदारी कर रही है।

दिवाली की खरीदारी के लिए वन स्टॉप डेस्टिनेशन

आने वाले दिवाली के त्यौहार को देखते हुए खादी महोत्सव दिवाली की शॉपिंग करने वालों के लिए एक उत्कृष्ट स्थान है, जहां आप आकर्षण दामों पर एक ही छत के नीचे खाने से लेकर घर की सजावट, पूजा पाठ का सारा सामान ले सकते हैं।

महोत्सव में हस्तशिल्प निर्मित मिट्टी के डिज़ाइनर दिए, मूर्तियां, डिज़ाइनर खुशबूदार मोमबत्तियां मौजूद है जो दिवाली के त्यौहार पर आपके घर में चार चांद लगा देंगी। कई मोमबत्तियां खुशबूदार और आकर्षक डिज़ाइन और रंगो में मौजूद है जो महोत्सव में आने वाले आंगतुकों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

रेशम का विशेष स्टॉल

सबसे खास बात इस महोत्सव की यह है कि यहां रेशम का एक स्टॉल अलग से लगाया गया है, जहां आंगतुक रेशम की सारी जानकारी ले सकते हैं। शहतूती रेशम, टसर रेशम, ऐरी रेशम के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल कर सकते हैं। रेशम की खेती कैसे होती है, कैसे रेशम का उत्पादन होता है, कैसे रेशम के कीड़ों और रेशम के अंडों को पाला जाता है, कितना खर्च रेशम की खेती और उसके आगे के उत्पादों को बनाने में आता है, कितने एकड़ में रेशम की खेती कितनी लागत और मुनाफे के साथ की जा सकती है, यह सभी जानकारी आंगतुकों को एक विशेष स्टॉल पर दी जा रही है।

तो अगर आप आने वाले दिवाली के त्यौहार की शॉपिंग करने के लिए सोच रहे हैं तो एक बार खादी महोत्सव जरूर जाएं और यहाँ एक ही छत के नीचे आपकी और आपके परिवार की ज़रुरत का संपूर्ण सामान और उसके साथ घर की सजावट का सारा सामान आपको यहां आकर्षक दामों पर मिल जाएगा। अगर आप मोल भाव करने में अच्छे हैं तो खादी महोत्सव में शॉपिंग आपको काफी किफायती भी पद सकती है।

समय – सुबह 11 बजे से रात 9 बजे तक, फ्री एंट्री
तिथि – 16 अक्टूबर से 30 अक्टूबर तक
स्थान – गोमती नगर स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *