मुख्य बिंदु

लखनऊ में भूमिगत बिन (कूड़ादान) लगाए जाएंगे, जिनमें सारा कूड़ा चला जाएगा।
उसके ऊपर एटीएम की तरह मशीन लगी होगी, इस मशीन से ही कूड़ा किसी वाहन में लदकर चला जाएगा।
कूड़ा भरने के साथ ही जीपीएस से कंट्रोल रूम को सूचना भी मिल जाएगी, जिससे उसे खाली किया जा सकेगा। 
शहर में कई जगह इसे लगाया जाएगा जिससे कूड़ा सड़कों पर न दिखाई दे।

लखनऊ में खुले स्थानों पर पड़ा हुआ कूड़ा कई लोगों के लिए परेशानी का सबब बन जाता है। इस समस्या का समाधान करने के लिए करने के लिए राजधानी में नगर निगम द्वारा भूमिगत कूड़ेदान लगाए जाएंगे, जिसमें सारा कूड़ा डाला जाएगा और उसके उपर एटीएम जैसी मशीनें, इन मशीनों से ही कूड़े को वाहन में निकाल कर डाला जाएगा। कूड़ा भरने पर जीपीएस से कंट्रोल रूम को सूचना भी मिल जाएगी, जिससे उसे खाली किया जा सकेगा।

इन जगहों पर बनाए जाएंगे स्मार्ट बिन

नगर निगम द्वारा इस योजना के प्रथम चरण के तहत चार जगहों पर यह बिन लगाए जाएंगे। इसके लिए जगह चिन्हित करने का काम शुरू हो गया है, जहां पर बड़े क्षेत्र में गड्ढा खोदा जा सके। इस गड्ढे पर कंकरीट की लेयर से मजबूत करने के साथ ही स्टील की चादर बिछाई जाएगी, जिससे कूड़े से निकलने वाला तरल पदार्थ भूजल को प्रदूषित न कर सके। रिपोर्ट के अनुसार, प्रथम चरण में विधान भवन में दो, डालीबाग के बहुखंडीय मंत्री आवास में एक और कैसरबाग में भूमिगत कूड़ा घर बनाए जाएंगे।

यह होंगी स्मार्ट बिन की विशेषताएं

यह बिन कई मायनों में स्मार्ट होंगे, इनके संचालन में बिजली की जरूरत नहीं होगी और यह कांपैक्टर वाहन के हाइड्रोलिक्स पर काम करेंगे। इसमें जीपीएस बिन लेवल सेंसर लगाया जाएगा जिससे कूड़ा भर जाने पर कंट्रोल रूम को उसे खाली करने की सूचना मिल सके। इससे शहर को साफ-सुथरा और कूड़े का बेहतर प्रबंधन में काफी मदद मिलेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *