आज बाजार में फूड-डिलीवरी ऐप की भरमार है जो महामारी के समय में ख़ास तौर पर आपके घरों और रेस्तरां के बीच के अंतर को कम करने में कामयाब रहे हैं। हालांकि, एक वक्त के भोजन और वंचितों के बीच लंबे समय से चली आ रहे गैप को कम करने का ऐसा कोई आधुनिक समाधान नहीं है। आज भारत का कोई भी शहर कितना भी विकसित क्यों न हो, भूख का मुद्दा हर जगह प्रमुख है, और लखनऊ इस मामले में अलग नहीं है।

लेकिन मानवता में हमारे विश्वास को बरकरार रखते हुए, कुछ ऐसे समूह और व्यक्ति हैं जो यह सुनिश्चित करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं कि हर दिन भूखे सोने वाले लोगों की संख्या में काफी कमी आए। आईये,इस उद्देश्य के लिए काम कर रहे 5 एनजीओ के बारे में जानें और उन्हें अपना सहयोग प्रदान करें जिस भी प्रकार से आप कर सकते हैं। एक छोटी सी मदद से किसी के जीवन में बहुत अधिक प्रभाव पड़ सकता है।

अक्षय पात्र फाउंडेशन


अक्षय पात्र फाउंडेशन पूरे भारत में फैला एक एनजीओ है जो एक स्कूल लंच प्रोग्राम (मिड-डे मील) संचालित करता है। वर्ष 2000 में स्थापित, इस संगठन का उद्देश्य भूख का मुकाबला करना और बच्चों की शिक्षा में सहायता करना है। कथित तौर पर, यह देश भर में हर दिन 18 लाख से अधिक बच्चों को खिलाती है। लखनऊ सहित कई शहरों में अपनी उपस्थिति के साथ, अक्षय पात्र फाउंडेशन ने पिछले साल कोरोना संकट के दौरान प्रवासी श्रमिकों के बीच भोजन वितरित करने का भी काम किया। नीचे दिए गए वेबसाइट लिंक पर क्लिक करके इस नेक काम में दान करें।

संपर्क: 097924 48359

वेबसाइट: अक्षय पात्र फाउंडेशन

रॉबिन हुड आर्मी

रॉबिन हुड आर्मी एक स्वयंसेवी-आधारित संगठन है जिसे 2014 में नील घोष और आरुषि बत्रा द्वारा स्थापित किया गया था। यह प्रतिष्ठान कम भाग्यशाली लोगों की सेवा के लिए रेस्तरां और समुदाय से अतिरिक्त भोजन प्राप्त करने का काम करता है। इस एनजीओ की अवधारणा के पीछे का विचार दुनिया भर में आत्मनिर्भर समूह बनाना है, जो अपने स्थानीय समुदाय की देखभाल करेंगे। अन्य सभी समूहों की तरह, इस स्वयंसेवी-आधारित संगठन का लखनऊ चैप्टर शहर भर में विभिन्न अभियान चलाता है। यदि आप इस समूह का हिस्सा बनना चाहते हैं तो अभी उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन करें!

संपर्क: info@robinhoodarmy.com पर एक मेल भेजें

वेबसाइट: रॉबिन हुड आर्मी

रोटी बैंक

रोटी बैंक एक नागरिक नेतृत्व वाला संगठन है जिसका प्राथमिक उद्देश्य जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध कराना है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, रोटी बैंक की लखनऊ में एक समूह सहित देश भर में फैली एक टीम है जो पूरी तरह से इस उद्देश्य के लिए समर्पित है। रोटी बैंक घरों और आयोजनों से बचा हुआ और अतिरिक्त भोजन एकत्र करता है और इसे जरूरतमंदों में वितरित करता है। इस विचारशील पहल का हिस्सा बनने के लिए कोई भी व्यक्ति नकद या वस्तु या यहां तक कि वालंटियर भी कर सकता है। इस संगठन के बारे में अधिक जानने के लिए वेबसाइट लिंक पर क्लिक करें।

संपर्क: 7905881802

वेबसाइट: रोटी बैंक लखनऊ

विजय श्री फाउंडेशन

विजय श्री फाउंडेशन एक एनजीओ है, जिसे वर्ष 2009 में लखनऊ में लॉन्च किया गया था। इस संस्था का मुख्य उद्देश्य अस्पतालों में जरूरतमंद गरीबों को भोजन का वितरण करना था। शुरुआत में लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज के विभिन्न वार्डों में भर्ती गरीब मरीजों के साथ के लोगों के बीच घर में बने खाने के पैकेट बांटे गए। धीरे-धीरे, ऑपरेशन शहर के अन्य अस्पतालों में भी बढ़ गया। वर्तमान में, इसके “प्रसादम सेवा” अभियान के तहत, लगभग 900 रोगियों को प्रतिदिन भोजन परोसा जाता है। उनकी टीम में शामिल होने या आर्थिक रूप से योगदान करने के लिए, उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग ऑन करें।

संपर्क: 099358 88887

वेबसाइट: प्रसादम सेवा

फीडिंग इंडिया

वर्ष 2014 में स्थापित, फीडिंग इंडिया का गठन भारत में भोजन की बर्बादी, कुपोषण और भूख की जटिल चुनौतियों को हल करने के लिए किया गया था। अपने कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के एक भाग के रूप में, Zomato ने इन मुद्दों से निपटने के लिए 2019 में इस संगठन का अधिग्रहण किया। लखनऊ में अपनी उपस्थिति के साथ, फीडिंग इंडिया बाय ज़ोमैटो ने उन समुदायों के बीच भूख को कम करने के लिए हस्तक्षेप तैयार किया है जो वंचित हैं। यदि आप दान करना चाहते हैं या इस संगठन के बारे में अधिक जानना चाहते हैं तो उनकी आधिकारिक वेबसाइट देखें।

संपर्क: उन्हें यहां लिखें

वेबसाइट: फीडिंग इंडिया

नॉक नॉक

भले ही ये संगठन स्थिति को सुधारने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं, लेकिन यह सुनिश्चित करना हम सभी पर है कि हम खाना बर्बाद न करें और गरीबों की मदद करने और उन्हें खिलाने के लिए हर संभव प्रयास करें। भूख की वैश्विक समस्या से लड़ने और उसे हराने के लिए सामूहिक प्रयास जरूरी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *