मुख्य बिंदु

ट्रेन में रात 10 बजे के बाद तेज आवाज में संगीत और फोन पर बात करने पर पूरी तरह रोक।
रात में यात्रियों की नींद खराब होने की शिकायत पर रेलवे बोर्ड का फैसला।
रेल कर्मचारी यात्रियों से नियमों का पालन करने के लिए आग्रह करेंगे।
उसके बाद भी अगर कोई यात्री नियम का पालन नहीं करता है तो उससे रेलवे एक्ट के तहत निर्धारित जुर्माना वसूला जाएगा।

अगर आपको ट्रेन में रात में सफर के दौरान तेज आवाज में संगीत सुनना पसंद है या तेज आवाज में बात करते है और बिना किसी की परवाह किए बिना आप ऐसा करते हैं तो अब सावधान हो जाएं। क्यूंकि अब रात में ट्रेन में तेज आवाज में संगीत बजाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। रेलवे ने बोर्ड ने फैसला लिया है कि अब ट्रेन में रात के दौरान तेज आवाज में कोई भी यात्री संगीत नहीं बजा सकेगा। अगर कोई रात में तेज आवाज में संगीत बजाता पकड़ा गया तो निर्धारित जुर्माना वसूला जाएगा।

रात में ट्रेनों में बड़ी संख्या में यात्री तेज आवाज में संगीत और फोन पर बात करते हैं जिससे दूसरे यात्रियों की नींद खराब होती है। इसको लेकर लगातार रेलवे बोर्ड को तमाम शिकायतें मिल रही थी की यात्री ऐसा कर रहे हैं। इसी को देखते हुए रेलवे बोर्ड के कार्यकारी निदेशक (यात्री विपणन) नीरज शर्मा और आरपीएफ की आईजी समृति शांडिल्य ने बैठक में निर्णय लिया और निर्देश दिया की रात 10 बजे के बाद तेज आवाज में बात करने या संगीत सुनने वालों पर कार्रवाई हो। चल टिकट चेकिंग कर्मचारियों के साथ ही आरपीएफ को ऐसे यात्रियों से जुर्माना वसूलने का जिम्मा सौपा गया है। सीनियर डीसीएम रेखा शर्मा के अनुसार व्यवस्था का पालन करवाने के लिए टीमों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। आपको बता दें कि ट्रेनों के कोच में रात 10 बजे के बाद लाइट बंद करने की व्यवस्था है।

अब हफ्ते में तीन दिन चलेगी तेजस

आईआरसीटीसी ने दिल्ली के यात्रियों की कमी को देखते हुए तेजस एक्सप्रेस 8250/82502 के फेरों में कमी करने का निर्णय लिया है। अब यह ट्रेन 25 जनवरी से 15 फरवरी तक हफ्ते में तीन दिन चलेगी। आईआरसीटीसी के चीफ रीजनल मैनेजर अजीत कुमार सिन्हा ने बताया कि वर्तमान में तेजस शुक्रवार, शनिवार, रविवार और सोमवार को चल रही है। हालांकि दिल्ली के लिए आने-जाने की वालों की संख्या कम होने के चलते अब ट्रेन को दोनों तरफ से शुक्रवार, शनिवार और रविवार को चलाने का फैसला लिया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *