खास बातें

उत्तर प्रदेश रोडवेज की बसों की टिकट लेने के लिए यात्रियों को अब परेशान नहीं होना पड़ेगा।
परिवहन विभाग यात्रियों की सुविधा के लिए एप तैयार करवा रहा है जिसके जरिये यात्री कहीं से भी टिकट बुक कर सकेंगे।
ऐप से टिकट बुक करने की सुविधा नए साल पर जनवरी 2022 से मिलने लगेगी।
इसके साथ ही यात्री बस में सफर के दौरान डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भी टिकट बनवा सकेंगे।
बसों में कैशलेस भुगतान के लिए 13,500 ईटीएम (इलेक्ट्रॉनिक टिकटिंग मशीन) मंगवाई जा रही है।

उत्तर प्रदेश रोडवेज बसों में सफर करने वालों को अब टिकट लेने के लिए ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ेगा। अब रोडवेज बसों की टिकट यात्री घर बैठे अपने फ़ोन से बुक कर सकेंगे। इसके लिए परिवहन विभाग अपना एप तैयार कर रहा है, जो मात्र 8 रुपये एक्स्ट्रा चार्ज पर एडवांस और तत्काल सीटों की बुकिंग तुरंत कर देगा। अभी तक परिवहन निगम की वेबसाइट से ऑनलाइन सीट बुक करने पर 20 से 30 रुपये एक्स्ट्रा चार्ज देना पड़ता है। एप से टिकट बुक करने की सुविधा नए साल पर जनवरी 2022 से मिलने लगेगी।

कम्पूटराइज़्ड ऑनलाइन सेवा देने के लिए प्राइवेट कंपनी से हुआ 5 साल का कॉन्ट्रैक्ट

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम ने बस यात्रियों को सुगम और पारदर्शी टिकट व्यवस्था उपलब्ध कराने के लिए पूरी तरह से कम्पूटराइज़्ड ऑनलाइन सेवा देने वाली मुंबई की आईटी कंपनी मेसर्स ओरियन प्रो ट्रांजिट सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड से 5 साल के लिए अनुबंध किया है। यह कंपनी तीन महीने के भीतर लखनऊ और गाजियाबाद में अपनी सेवाएं शुरू करेगी।

इसमें यात्री बस में सफर के दौरान डेबिट और क्रेडिट कार्ड से टिकट बनवा सकेंगे। यात्रियों को ये सुविधा आईटी कंपनी की नई आधुनिक टिकट मशीन से हासिल होगी। यह कंपनी यात्रियों को ऑनलाइन सीट रिजर्वेशन करने की भी सुविधा देगी।

जल्द ‘वन नेशन वन कार्ड’ के तहत मिलेगी परिवहन सेवा

जल्द ही भारत सरकार की ‘वन नेशन वन कार्ड’ योजना के तहत एक ही कार्ड द्वारा विभिन्न परिवहन साधनों की सुविधा भी हासिल होगी। इसमें यात्रियों को लागत और मोबाइल एप द्वारा बस टिकटिंग सुविधा के साथ ही प्रमुख सेवाओं की समय सारणी, बस सेवाओं की उपलब्धता और बस स्टशनों पर यात्रियों की सुविधाओं की भी जानकारी हो सकेगी।

इस समय उत्तर प्रदेश रोडवेज के पास 12,500 बसें है और इन बसों के लिए 13,500 ईटीएम (इलेक्ट्रॉनिक टिकटिंग मशीन) मंगवाई जा रही है। इस मशीन से से बसों की लोकेशन से लेकर यात्रियों के टिकट और भुगतान का भी पूरा ब्यौरा मिलता रहेगा और इसकी निगरानी उत्तर प्रदेश रोडवेज मुख्यालय पर कमांड सेंटर बनाकर की जायेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *