भारत के सबसे पसंदीदा कहानीकार, नीलेश जी जो ग्रामीण और शहरी भारत को जोड़ने वाली अपने विचारधारा के लिए समान रूप से प्रसिद्ध हैं, उन्होंने इस वर्ष 2021 में स्लो प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड नामक एक नया उद्यम शुरू किया। नीलेश मिश्रा पत्रकार, लेखक, पटकथा लेखक और गीतकार होने के साथ साथ भारत के अग्रणी चेंजमेकर्स में से एक हैं जिन्होंने लगातार नए और सामाजिक रूप से प्रभावशाली विचारों को पेश किया है जिन्होंने लाखों लोगों को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया है।

जैसे-जैसे दुनिया तेजी से फैशन की तेज रफ्तार में डूबती जा रही है, नीलेश मिश्रा अपने नए उद्यम ‘स्लो प्रोडक्ट्स’ के तहत स्लो बाजार को लखनऊ लेकर आये हैं। स्लो बाजार भारत के सबसे बड़े ग्रामीण मीडिया प्लेटफॉर्म गांव कनेक्शन के नेटवर्क के माध्यम से सीधे किसानों की मदद करने की एक पहल है, और उन ग्रामीण समुदायों की मदद करता है। स्लो बाजार के संस्थापक उन निर्माताओं को बढ़ावा देने में विश्वास करते हैं जिनके पास असाधारण कौशल और प्रतिभा है लेकिन पहुंच और कनेक्शन की कमी के कारण उनके प्रयासों के लिए उचित क्रेडिट या मुआवजा नहीं मिलता है।

तो फ़ास्ट फैशन की इस दुनिया को अलविदा कहिये और इसके स्थान पर स्लो बाजार की ओर रुख करें जो पूरे भारत से जमीनी स्तर के सामान की पेशकश करता है, जो ईमानदारी और अखंडता के साथ बनाया गया है, जो यहाँ के उत्पादों में बखूबी और स्पष्ट नज़र आता है। ‘स्लो बाजार’ प्यार से तैयार किए गए जैविक इंडी-उत्पादों की खरीदारी के लिए एक आरामदेह, उद्देश्यपूर्ण और विचारशील तरीके को बढ़ावा देता है।

धीरे-धीरे भारत की विविध सुंदरता का अन्वेषण करें

स्लो बाजार के साथ ‘स्लो मूवमेंट’ के विचार का विस्तार करते हुए, संस्थापक जोड़ी- यामिनी और नीलेश मिश्रा हमारी रोजमर्रा की जरूरतों के लिए स्थायी विकल्प प्रदान करके हमारे जीवन को संतुलित करने के प्रयास कर रहे हैं। शुरुआत में जैविक खाद्य पदार्थों के साथ शुरू हुआ, यह स्टोर अब पुरुषों और महिलाओं के लिए कपड़ों के विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है, सौंदर्य और जीवन से जुड़े उत्पाद, घर की सजावट का सामान, खिलौने और स्टेशनरी और यहां तक ​​कि उपहार सेट भी।

स्लो बाजार के साथ, भारत भर के विभिन्न स्थानों से प्राप्त हस्तनिर्मित उत्पादों के माध्यम से भारत की विविध सुंदरता को देखा जा सकता है। सीतापुर के कालीनों और ऊदबिलाव से लेकर सिग्नेचर राजस्थानी गुदरी, लिनेन और अन्य हथकरघा उत्पाद; कर्नाटक के विशेष लकड़ी के खिलौनों से लेकर भागलपुर की साड़ियों तक, स्लो बाज़ार में सब कुछ मौजूद है। लखनऊ में इस स्टोर के साथ, कोई भी वास्तव में दूर-दराज़ की यात्रा किए बिना इन शहरों से लायी गयीं विशेषताओं से अपने घरों और जीवन को सुशोभित कर सकते हैं।

कुशल कारीगरों के लिए एक मंच

बड़े पैमाने पर उत्पादन व्यवस्था में काम करने वालों श्रमिकों के विपरीत, किसान, कारीगर और सभी निर्माता एक नैतिक रूप से सुगम वातावरण में काम करते हैं जो उन्हें उनके मूल अधिकारों से वंचित नहीं करता है। स्लो बाजार के संस्थापकों के लिए, निर्माता उतने ही महत्वपूर्ण हैं जितने कि उपभोक्ता और उनके प्रयासों को उचित श्रेय,सराहना और स्वीकृति मिलना चाहिए। स्लो बाजार के परिवेश में यह विचार केवल शब्दों में ही नहीं मौजूद है बल्कि इसे वास्तविकता में तब्दील करने के सभी प्रयास किये जा रहे हैं।

यहाँ निर्माताओं, किसानों और कारीगरों को उत्पादों की लागत के अलावा शुद्ध लाभ का 10% प्राप्त होता है। रचनाकारों को प्रोत्साहित करने के अलावा, यह अवधारणा इन प्रतिभाशाली निर्माताओं को अपने कुशल हांथों से तैयार किए गए उत्पादों पर गर्व के अवसर प्रदान करती है। अपने व्यापक नेटवर्क की मदद से, स्लो बाजार की संस्थापक जोड़ी का लक्ष्य इन कुशल मजदूरों के लिए भी एक विशेष पहचान बनाना है।

स्लो मूवमेंट क्या है?

स्लो मूवमेंट की यह अवधारणा इस दुनिया की अराजकता से आगे बढ़ते हुए,एक संतुलित और आसान जीवन शैली को बढ़ावा देने के विचार से उपजी है। जबकि दुनिया तेजी से फैशन के पीछे भाग रही है, यह पथप्रदर्शक पहल विभिन्न विचारशील उत्पादों, सामग्री और अनुभवों के माध्यम से पारंपरिक मूल्यों के साथ समकालीन विचारों को सामने लेकर लाती है।

अपने सभी उपक्रमों की सफलता से प्रेरित होकर, स्लो बाज़ार की संस्थापक जोड़ी ने उपभोक्ताओं और रचनाकारों को इस ,सुधारवादी मूवमेंट से जोड़ने और एक पर्यावरण के अनुकूल जीवन शैली को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से इस पहल को लॉन्च किया। यह पहल धीमी जीवनशैली को समाहित करती है- जिसमें कविता, कहानियां और फोटोग्राफी, स्लो अनुभव, स्लो पत्रकारिता और स्लो बाजार शामिल हैं।

स्लो मूवमेंट का हिस्सा बनें

यदि आप भी इस पहल से उतने ही प्रेरित हैं जितने हम हैं, तो हमारे पास आपके लिए एक अच्छी खबर है। इस समझदार खरीदारी का अनुभव प्रदान करने के साथ, स्लो बाजार अब उन लोगों से जुड़ने के लिए खुला है जो इस स्लो मूवमेंट का हिस्सा बनने के इच्छुक हैं। एक स्थायी जीवन शैली को और बढ़ावा देने के लिए, यह स्टोर पूरे लखनऊ में अपनी फ्रैंचाइज़ी की पेशकश कर रहा है। शहर में स्लो बाजार की स्थापना के लिए एकमात्र पूर्व-आवश्यकता घर-आधारित सेटअप है। इसलिए यदि आप इस मूवमेंट का हिस्सा बनना चाहते हैं जो क्षेत्रीय कलाकृति को बढ़ावा देता है, तो एक घरेलू सेटअप के साथ, स्टोर से संपर्क करें और तुरंत स्लो बाज़ार की एक फ्रैंचाइज़ी के मालिक बनें।

नॉक नॉक

स्लो बाजार में भोजन से लेकर जूते-चप्पल तक बिना मिलावट वाले हस्तनिर्मित उत्पादों की एक श्रृंखला मौजूद है जिसके साथ हम फैशन से समझौता किए बिना जिम्मेदारी की भावना के साथ खरीदारी करने के लिए तैयार हैं। विशेष रूप से, लखनऊ में फ्लैगशिप स्टोर के अलावा, कोई भी उत्पादों की ऑनलाइन खरीदारी कर सकता है क्योंकि ब्रांड पूरे भारत में अपने उत्पादों को वितरित करता है। स्लो बाज़ार की आधिकारिक वेबसाइट पर नवीनतम उत्पादों पर एक नज़र डालें और अपने घरों के आराम से ही एक समझदार खरीदारी के रास्ते पर अग्रसर हों।

स्थान: 4, 295, पत्रकार पुरम, विवेक खंड 3, गोमती नगर

संपर्क: 070810 09977

समय: 11:00 AM – 8:30 PM

नीलेश मिश्रा – https://neeleshmisra.com/

स्लो बाजार – वेबसाइट

स्लो बाजार –इंस्टाग्राम हैंडल

Read this article in English – Slow Bazaar by Neelesh Misra is the newest hub of hand-picked indie products in Lucknow!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *