उत्तर प्रदेश सरकार नें कोरोना के खिलाफ जंग में पत्रकारों, जजों व सरकारी अधिकारी व कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर घोषित कर दिया है। सरकार नें कहा है की अब इन सभी को प्राथमिकता के आधार पर कोरोना का टीका लगाया जाएगा। वैक्सीनेशन के लिए मेडिकल टीम संस्थानों में खुद जाकर कैंप लगाएंगी और टीकाकरण किया जाएगा। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल के मुताबिक उत्तर प्रदेश सरकार के ताजा फैसले के तहत राज्य में अब पत्रकारों और उनके परिवारों को मुफ्त में कोरोना वैक्सीन लगेगी और प्रदेश में पत्रकारों के लिए अलग वैक्सिनेशन सेंटर बनाए जाएंगे।

लखनऊ में ऑक्सीजन से लेकर बेड तक सभी व्यवस्था करेगी टीम 9

लखनऊ में कोरोना से लड़ने के लिए लखनऊ डीएम अभिषेक प्रकाश नें टीम 9 का गठन किया है, जो कोविड नियंत्रण से लेकर आईसीयू - ऑक्सीजन सप्लाई, एम्बुलेंस सेवाओं को सुचारू बनाए रखने, जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता और अस्पलों में मरीजों की भर्ती तक की जिम्मेदारी जिले में संभालेगी। जिलाधिकारी ने सीडीओ, सीएमओ और एडीएम समेत अन्य अधिकारियों को इस टीम में शामिल किया है। इसके अलावा ये टीम चिकित्सकों, चिकित्सा शिक्षा विभागों और अस्पतालों से सम्पर्क में रहेगी। साथ ही औद्योगिक इकाइयों को संचालित रखने और मजदूरों की समस्याओं का समाधान करेगी। वही मुख्यमंत्री ने प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए कोरोना लॉकडाउन को आगे बढ़ा दिया है। जिसके तहत अब 6 मई सुबह 7 बजे तक सम्पूर्ण बंदी कर दी गई है। वही अब प्रदेश में कुल 5 दिनों का लॉक डाउन रहेगा, जो गुरुवार 7 मई को खुलेगा।