उत्तर प्रदेश राज्य ने अपने महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम मिशन शक्ति के तीसरे चरण को 21 अगस्त से शुरू करने का फैसला किया है। इस राजकीय अभियान में राज्य की महिला आबादी के लिए लाभ बनाने, कारगर बनाने और बढ़ाने के लिए कई कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार की जाती है। सुरक्षा, रोजगार और स्वच्छता पर ध्यान केंद्रित करने वाली पहल के साथ, मिशन शक्ति का उद्देश्य समाज के सभी वर्गों की महिलाओं को सशक्त करना है।

महिलाओं की सुरक्षा, गरिमा और सशक्तिकरण के लिए


मिशन शक्ति अभियान के पहले दो चरणों को पूरा करने के बाद, उत्तर प्रदेश सरकार ने महिला सशक्तिकरण पर ध्यान केंद्रित करते हुए यहां एक और चरण शुरू करने का फैसला किया है। नामित अधिकारियों को यह धान देने का निर्देश दिया गया है कि 'मिशन शक्ति' के बैनर तले तैयार किए गए सभी नए कार्यक्रम राज्य भर में एक समान विकास लाएं।

महिला कल्याण विभाग के डायरेक्टर मनोज राय ने कहा कि राज्य सरकार महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए केंद्रित प्रयास किये हैं जिसके तहत मिशन शक्ति के सकारात्मक परिणाम देखने को मिले हैं। कार्यक्रमों के अलावा महिलाओं और बच्चियों को सरकार की विभिन्न योजनाओं से जोड़ने का काम भी किया जा रहा है।

मिशन शक्ति कार्यक्रम के तीसरे चरण के दायरे में 'हक की बात' कार्यक्रम शामिल होगा। यह नया पहलू सुरक्षा, सुरक्षा तंत्र, यौन हिंसा, लैंगिक असमानता, घरेलू, दहेज हिंसा, कन्या भ्रूण हत्या, कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न आदि से संबंधित सुझावों से निपटेगा।