कोरोना संक्रमण की घातक लहर के बाद उत्तर प्रदेश अब ब्लैक फंगस के भयावह भंवर में फंसता जा रहा है। राज्य में अभी तक ब्लैक फंगस के कुल 506 मामलें आये हैं जिसमें 160 मामले लखनऊ के हैं। रिपोर्ट के अनुसार 19 लोगों की भयावह संक्रमण के कारण मृत्यु हो गयी।

लखनऊ के केजीएमयू में 124 ब्लैक फंगस के मरीज़ हैं


बढ़ते ब्लैक फंगस संक्रमण कोरोना से रिकवर हो गए मरीज़ों में एक पोस्ट कोविड समस्या के रूप में विकसित हो रहा है, और इसके घातक परिणामों के चलते यूपी सरकार ने इसे एक 'अधिसूचित बीमारी' (Notified Disease) घोषित कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में यह संक्रमण बढ़ रहा है और राज्य के 66 हेल्थ सेंटरों में इसके मामले दर्ज किये जा चुके हैं।

इसी बीच रविवार को लखनऊ के केजीएमयू प्रशासन ने बताया की वे ब्लैक फंगस के 124 मामलों का इलाज कर रहे हैं, और इसके अलावा राम मनोहर लोहिया अस्पताल में 14 मामले और चन्दन अस्पताल में 16 ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज चल रहा है। इसके अलावा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, बर्न्स एंड ट्रामा सेंटर में 5 मामले और एरा लखनऊ मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में ब्लैक फंगस के 1 मरीज का इलाज चल रहा है।

राज्य स्तर पर देखा जाए तो लखनऊ के बाद मेरठ डिवीज़न में ब्लैक फंगस संक्रमण के सबसे अधिक 115 मामले हैं। इस सूची में आगे 46 मामलों के साथ गाजियाबाद, 23 मामलों के साथ गौतम बुद्ध नगर, 17 मामलों के साथ वाराणसी और 10 मामलों के साथ आगरा शामिल हैं। जौनपुर, आजमगढ़, गाजीपुर, गोरखपुर और बरेली में आठ-आठ मामले हैं।