लखनऊ में महामारी की स्थिति को ध्यान में रखते हुए, लखनऊ के संयुक्त पुलिस आयुक्त ने रविवार को घोषणा की कि शहर 6 जुलाई तक धारा 144 के तहत बंद रहेगा। जहां राज्य की राजधानी में मामले की संख्या में काफी गिरावट आई है, वहीं महामारी के फिर से फैलने का डर और प्रत्याशित तीसरी लहर अभी भी कायम है। इसके अलावा, शीर्ष पुलिस अधिकारी ने पुष्टि की कि लॉकडाउन के विस्तार के संबंध में निर्णय मंगलवार को मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए लिया जाएगा।

रविवार में सक्रिय रोगियों की गिनती कम हुई


महामारी की दूसरी लहर के प्रभावों के बाद लखनऊ में स्थिति में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। रिकवर होने वाले लोगों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई और न्यूनतम नए संक्रमणों के साथ, शहर में रविवार को सक्रिय रोगियों की संख्या घटकर 1,121 हो गई। शनिवार को जहां 7 मौतें दर्ज की गईं, वहीं मरने वालों की कुल संख्या 2,493 हो गई है।

कुल मिलाकर, लखनऊ में 2,37,763 व्यक्ति वायरस से प्रभावित हुए हैं और इन मामलों में सबसे अधिक बढ़ोत्तरी अप्रैल और मई के दौरान देखी गई। जहां अब कोरोना के ग्राफ में गिरावट देखी जा रही है, वहीं अभी भी पूरी सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है ताकि संक्रमण का प्रसार दोबारा न हो।

इसलिए, सभी बताए गए दिशानिर्देशों और प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना और भीड़-भाड़ वाले स्थानों से बचना महत्वपूर्ण है। जिला प्रशासन ने वर्तमान स्थिति को देखते हुए धारा 144 के प्रतिबंधों को जारी रखा है। आपको बता दें की सक्रिय मामलों के 600 से नीचे आने पर पूर्ण लॉकडाउन प्रतिबंधों को एक बार रद्द किया जा सकता है।