उत्तर प्रदेश के सरकारी कर्मचारी अब सरकारी खर्चे पर ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर खरीद सकेंगे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कोरोना काल में अपने कर्मचारियों को बड़ी सहूलियत देने का एलान कर दिया है। मुख्यमंत्री नें कहा है कि राज्य सरकार के अधिकारी और कर्मचारी शासन द्वारा तय चिकित्सा प्रतिपूर्ति के नियमों के अंतर्गत ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर खरीद सकेंगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया है कि सरकारी कार्यालयों में एक समय में एक तिहाई से अधिक कर्मचारी उपस्तिथ न रहें और इस संबंध में भी उन्होंने आदेश जारी कर दिया है।

सभी कार्यालयों में दिया जाए वर्क फ्रॉम होम


मुख्यमंत्री ने बीते शुक्रवार को टीम 9 की बैठक में कहा है कि सभी सरकारी और निजी कार्यालयों में बीमार, दिव्यांग कर्मचारी और गर्भवती महिला कर्मियों को वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी जाए। इन्हे कार्यालय आने की कोई अनिवार्यता नहीं है। इसी प्रकार सभी कार्यालयों में 50 % कार्मिक छमता से ही कार्य लिया जाए।

कोरोना से निधन के बाद सभी पार्थिव शरीर की नि:शुल्क अंत्येष्टि कराएगी सरकार


सरकार ने बड़ा फैसला लिया है कि सरकार कोरोना वायरस संक्रमण से मौत के बाद अब सभी पार्थिव शरीर की अत्येष्टि नि:शुल्क कराएगी। इसका शासनादेश भी जारी कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में कोविड से मृत्यु की दशा में निःशुल्क अंतिम संस्कार होगा,यह आदेश नगर निगम सीमा में लागू होगा। सरकार के इस आदेश के बाद अब नगर निगम की सीमा में आनेवाले सभी शवदाह गृहों, क़ब्रिस्तान और श्मशानों में अंतिम संस्कार का खर्च नगर निगम उठाएगा। एक पार्थिव शरीर की अंत्येष्टि में अधिक से अधिक पांच हजार रुपया की धनराशि ही व्यय की जाएगी।