उत्तर प्रदेश में दूसरी जानलेवा कोविड लहर को नियंत्रित करने के लिए, राज्य सरकार ने चल रहे लॉकडाउन की अवधि को 9 मई, सुबह 7 बजे तक बढ़ाने की घोषणा की है। इससे पहले, वीकेंड कोरोना कर्फ्यू को गुरुवार सुबह 7 बजे तक बढ़ा दिया गया था, और अब यह लॉकडाउन सोमवार सुबह तक लगा रहेगा। अब तक, 13,68,183 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और इस घातक वायरस की वजह से 13,798 नागरिकों ने अपनी जान गवां दी।

यूपी में संक्रमण की गति को रोकने के लिए प्रयास जारी


हालांकि, उत्तर प्रदेश में मंगलवार को नई मरीज़ों की संख्या 25,770 थी, जो कि पिछले तीन सप्ताह में सबसे कम है, प्रशासन निरंतर नए प्रतिबंधों के साथ इस वृद्धि को रोकने का प्रयास कर रहा है। मार्च के अंत तक राज्य में 6,17,194 मामले दर्ज किए गए थे, अप्रैल में इस संख्या में तेज़ी से वृद्धि हुई और महीने के अंत तक यह आंकड़ा 12,52,324 तक पहुंच गया। इन अभूतपूर्व परिस्थितियों को देखते हुए, अधिकारियों ने पिछले दो हफ्तों में कई प्रतिबंधों के साथ इस लहर को नियंत्रित करने की कोशिश की है।

महामारी की शुरुआत के बाद से 12 महीने की अवधि में 8,811 मौतें दर्ज की गई थीं, अप्रैल में 3,759 लोगों की मृत्यू के साथ इस ग्राफ में भारी उछाल देखा गया। एक अच्छी बात यह है कि, पिछले 10 दिनों में राज्य में 3.5 लाख से अधिक लोगों की रिकवरी दर्ज की गई है, जो कि उस अवधि में आए नए मरीज़ों की संख्या से अधिक है।

हालांकि प्रशासन संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए व्यापक उपाय कर रहा है, लेकिन दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन किए जाने पर ही इसे रोक पाना संभव है। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि मौजूदा चिकित्सा व्यवस्था पर पहले से ही भारी बोझ है, और अगर ऐसी परिस्थिति में नए मामले आते हैं तो यह स्थिति और भी खराब हो सकती है।