उत्तर प्रदेश में चल रहे लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक ने प्रदेश में 24 मई तक लॉंकडाउन बढ़ाने पर सहमति दे दी। 24 मई की सुबह 7 बजे तक पाबंदियां जारी रहेंगी। नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। आवश्यक सेवाओं को छूट मिलती रहेगी। साथ ही यूपी सरकार ने श्रमिकों, ठेलेवाले, खोमचे वालों को 1000 रुपये महीना भत्ता और तीन महीने का राशन देने की घोषणा की है। साथ ही 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को नि:शुल्क वैक्सीन लगवाने पर मुहर लगी। इसके साथ ही संक्रमण बढऩे के दौरान कम्युनिटी किचन का संचालन भी होगा और संक्रमित परिवारों का ध्यान रखते हुए 20 मई से माध्यमिक व उच्च शिक्षा विभाग में ऑनलाइन शिक्षण पर भी विचार किया जाएगा।

इससे पहले सरकार ने 17 मई तक राज्य में वीकेंड कोरोना कर्फ्यू बढ़ाया था। लेकिन अभी संक्रमण फैल रहा है और लॉकडाउन की वजह से कोरोना के मामलों में कुछ गिरावट आई है तो सरकार ठिलाई नहीं बरतना चाहती इसलिए ये फैसला लिया गया है। उत्तर प्रदेश में बीते 30 अप्रैल से कोरोना कर्फ्यू लागू है। शुरुआत में सरकार ने इसे तीन दिन के लिए 3 मई तक लगाया था, लेकिन कोविड के तेजी से बढ़े मामलों के बाद इसे 6 मई तक के लिए बढ़ाया गया और फिर इसे 17 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया था।

लॉकडाउन बढ़ाने के पीछे एक वजह ये है कि अभी तो फिलहाल प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में कोरोना संक्रमितों की संख्या कम हो रही है साथ ही रिकवरी रेट भी बढ़ रहा है पर गांवों में फैल रहा संक्रमण सरकार के लिए चिंता का सबब बन गया है, इसलिए सरकार कोई मौका नहीं लेना चाहती है।

लखनऊ में कम हुए सक्रिय मरीज


उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 12547 नए मरीज मिले हैं जबकि 281 लोगों की मौत हुई है। वहीं, 28404 संक्रमित अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर गए हैं। बता दें कि प्रदेश में अभी तक 17238 लोगों की मौत कोरोना संक्रमण के कारण हो चुकी है। इसके साथ ही लखनऊ में पिछले कुछ हफ्तों से कोरोना के नए मामलों की संख्या में लगातार बड़ी गिरावट देखने को मिल रही है। शहर में पिछले 1 महीने में पहली बार सक्रिय मरीजों की संख्या 15000 से कम हुई है।