मुख्य बिंदु

लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) जल्द ही शहर में 4 नए पालतू जानवरों के लिए श्मशान घाटों की स्थापना करेगा।

➡यह ध्यान दिया जा सकता है कि जमीन की उपलब्धता के आधार पर श्मशान घाट शहीद पथ पर या तो अंसल गोल्फ सिटी या ओमेक्स टाउनशिप में बनाया जाएगा।

➡इनमें से प्रत्येक श्मशान प्लांट बिजली से संचालित होगा और इसकी लागत लगभग ₹8.50 लाख होगी, जो पूरी योजना के लिए अनुमानित ₹34 लाख का बजट है।

➡परियोजना की लागत एलडीए इंफ्रास्ट्रक्चर फंड द्वारा कवर की जाएगी और निर्माण जल्द ही शुरू हो जाएगा।

➡यह कदम एलएमसी के अनिवार्य पालतू रजिस्ट्रेशन के नियम के साथ आता है।

लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) जल्द ही शहर में 4 नए पालतू जानवरों के लिए श्मशान घाटों की स्थापना करेगा, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि पालतू जानवरों और आवारा जानवरों का अंतिम संस्कार सम्मानपूर्वक किया जाए। यह भी सुनिश्चित करेगा कि जानवरों के शवों का स्वच्छ तरीके से और ठीक से अंतिम संस्कार किया जाए।

जल्द शुरू होगा पालतू श्मशान घाट का निर्माण


अभी तक, लखनऊवासियों के लिए अपने पालतू जानवरों का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करने का कोई विशेष प्रावधान नहीं है, हालांकि, यह जल्द ही बदलने वाला है। एलडीए ने पूरे लखनऊ में गोमती नगर एक्सटेंशन, कुर्सी रोड, मानसरोवर योजना और शहीद पथ नामक 4 स्थानों को चिह्नित किया है, ताकि घरेलू पशुओं के लिए इलेक्ट्रिक शव गृह स्थापित किया जा सके। यह ध्यान दिया जा सकता है कि जमीन की उपलब्धता के आधार पर श्मशान घाट शहीद पथ पर या तो अंसल गोल्फ सिटी या ओमेक्स टाउनशिप में बनाया जाएगा।

इनमें से प्रत्येक श्मशान प्लांट बिजली से संचालित होगा और इसकी लागत लगभग ₹8.50 लाख होगी, जो पूरी योजना के लिए अनुमानित ₹34 लाख का बजट है। कथित तौर पर, परियोजना लागत एलडीए इंफ्रास्ट्रक्चर फंड द्वारा कवर की जाएगी और निर्माण जल्द ही शुरू हो जाएगा।

यह कदम एलएमसी के अनिवार्य पालतू रजिस्ट्रेशन के नियम के साथ आता है। यह अनुमान लगाया गया है कि रजिस्ट्रेशन शुल्क से एकत्रित धन लखनऊ में कई पालतू-केंद्रित विकास परियोजनाओं को चलाने में मदद करेगा। रिपोर्ट के अनुसार, पालतू लाइसेंस न होने पर नागरिकों को भारी जुर्माना के साथ दंडित किया जाएगा। यह राशि पालतू जानवरों के साथ-साथ आवारा पशुओं के लिए नयी योजनाओं के विकास के लिए भी निर्देशित की जाएगी।