उत्तर प्रदेश में बेकाबू कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने और संक्रमण के प्रसार पर काबू पाने के लिए मुख्यमंत्री ने आदेश दिया है की अंतरराज्यीय बस सेवा को तत्काल स्थगित करें। प्रदेश में अगले 15 दिनों तक उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों का संचालन केवल राज्य के अंदर ही जिलों के लिए किया जाए। इसके साथ ही हवाई यात्रा से आने जाने वाले यात्रियों के लिए कोविड की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की जाए, और गांव कस्बों में आने जाने वाले हर एक प्रवासी व्यक्ति की कोरोना जांच सख्ती से की जाए और जरूरत पड़ने पर नियमानुसार क्वारंटीन करने की भी व्यवस्था हो और कोई भी जांच से छूट न पाए। ट्रेनों से आने वालों की तापमान जांच हो, संदिग्ध हों तो एंटीजन टेस्ट आदि कराया जाना सुनिश्चित करें। इसमें लापरवाही न हो।

अब गांवों में कोरोना संक्रमण रोकने की मुहिम शुरू


उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव खत्म हो चुके है और अब गांवों में कोरोना संक्रमण रोकने की मुहिम शुरू हो चुकी है। मुख्यमंत्री नें आदेश दिया है की प्रदेश के हर एक गांव में कोरोना की जांच संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए युद्धस्तर पर तत्काल काम किया जाए। प्रदेश के सभी 97,000 राजस्व गांवों में कोविड टेस्टिंग का अभियान 4 मई से तीव्र गति से संचालित किया जाए और सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर जरूरी सुविधाओं से युक्त कम से कम 10 बेड तैयार किये जाए ताकि जरूरत पड़ने पर समय पर इलाज मुहैय्या करवाया जा सके। मुख्यमंत्री का साफ़ कहना है की कोविड संक्रमण से हमें गांवों को बचाना होगा, गांवों के प्रति विशेष सतर्कता की जरूरत है, जो पॉजिटिव पाए जाएं उन्हें तत्काल उपचार दिया जाए।