पिछले 2 हफ्तों से कोविड के ग्राफ में गिरावट दर्ज की गई है और इसके साथ लखनऊ में आने वाले दैनिक कोविड मामलों में भी कमी आई है। आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, 40 दिनों में पहली बार बुधवार को नए मामलों की गिनती कम होकर 916 तक पहुंच गई। इससे पहले, 2 अप्रैल को ताजा संक्रमणों का आंकड़ा 1,000 से नीचे गया था और उसके बाद मामले खतरनाक रूप से बढ़ने लगे। इसके अलावा, शहर में अभी 17,614 सक्रिय मरीज हैं और पिछले 5 दिनों में 17000 से अधिक रोगी ठीक हो चुके हैं।

मई की शुरुआत से अभी तक 50,000 से अधिक लोग हुए रिकवर


घातक महामारी की दूसरी लहर के बाद पूरे शहर में असंतोष फैलने लगा थे, पिछले दो हफ्तों के मामलों में आई कमी भविष्य के लिए सकारात्मक संकेत हैं। पिछले 12 दिनों में पंजीकृत 50,000 से अधिक की रिकवरी के साथ, सक्रिय रोगी की गिनती में काफी गिरावट आई है, और ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि आगे भी यही हालात रहेंगे।

बुधवार को 3,148 लोगों की रिकवरी दर्ज की गई, जबकि मरने वालों की संख्या में 23 की वृद्धि हुई। ताज़ा मामलों में गिरावट के साथ, यह उम्मीद की जा सकती है कि मृत्यु दर को और नियंत्रित किया जाएगा और शहर में दोबारा स्थिरता आएगी। सक्रिय मामलों में कमी के बावजूद, रोगियों की एक बड़ी संख्या का इलाज करने के लिए चिकित्सा के मौजूदा बुनियादी ढ़ाचें पर बोझ बना हुआ है।

पिछले 12 दिनों में एक लाख से अधिक लोगों को लगाया गया टीका


शहर अभी भी कोविड संकट से जूझ रहा है इसलिए अधिकारियों ने टीकाकरण कार्यक्रम को सुचारू रूप से चलाने और इसके क्रियान्वयन को सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रित किया है। 18-44 आयु वर्ग के व्यक्तियों के अलावा, पिछले चरणों में छूटे अन्य नागरिकों का भी टीकाकरण किया जा रहा है। मौजूदा परिस्थितियों में, टीकाकरण वायरस के खिलाफ सबसे मजबूत हथियार है।