लंबे समय से डिपो में खड़ी 4 इलेक्ट्रिक बसें जल्द ही ट्रायल रन के लिए लखनऊ की सड़कों पर चलने लगेंगी। रिपोर्ट के अनुसार, उम्मीद है कि आगामी सप्ताह में परीक्षण शुरू हो जाएगा और इसकी तैयारी शुरू हो चुकी है। यह बताया गया है कि ट्रायल रन एक महीने की अवधि के लिए चलाया जाएगा और पायलट परियोजना के निष्कर्षों का मूल्यांकन करने के लिए एक विशेष समिति का गठन किया गया है।

ट्रायल रन के दौरान ई-बसों के रूट में कई स्थानों को शामिल किया गया है


कथित तौर पर, योजना की शुरुआत जिला विकास मंत्री द्वारा की जाएगी। रिपोर्ट्स के मुताबिक इन 10 मार्गों पर होगा ट्रायल-

  • रूट नंबर-1- इंटीग्रल यूनिवर्सिटी, गुडंबा से अवध हॉस्पिटल और दुबग्गा।
  • रूट नंबर-2-विराजखंड, लोहिया अस्पताल, चारबाग, आलमबाग, आंबेडकर यूनिवर्सिटी।
  • रूट नंबर-3-दुबग्गा, अवध हॉस्पिटल, ट्रांसपोर्टनगर, अवध बस स्टेशन, शहीद पथ।
  • रूट नंबर-4 -दुबग्गा, बालागंज, पॉलीटेक्निक, अवध बस स्टेशन, चिनहट मोड़।
  • रूट नंबर-5 -दुबग्गा, पक्का पुल, डालीगंज पुल, स्वास्थ्य भवन, लखनऊ यूनिवर्सिटी, लोहिया अस्पताल।
  • रूट नंबर-6 -मडिय़ांव, इंजीनियरिंग कालेज, पुरनिया, जीपीओ, चारबाग, आलमबाग चौराहा।
  • रूट नंबर-7 -दुबग्गा, चौक, इंजीनियरिंग कालेज, विश्वविद्यालय न्यू कैंपस, एकेयू यूनिवर्सिटी।
  • रूट नंबर-8 -विराजखंड, हुसडिय़ा चौराहा, पत्रकारपुरम, जीपीओ, लोको मोड़, आलमबाग चौराहा।
  • रूट नंबर-9 -दुबग्गा, अवध हॉस्पिटल चौराहा, चारबाग, हजरतगंज, अर्जुनगंज, आंबेडकर यूनिवर्सिटी।
  • रूट नंबर-10 -गुडंबा, गाएत्री टेंपिल, लॉरेटो, छप्पन भोग चौराहा, तेलीबाग, एसजीपीजीआई।

बसों के ट्रायल रन का निरीक्षण 5 सदस्यीय विशेषज्ञ समिति करेगी

प्रोटोटाइप बसों के निरीक्षण के उद्देश्य से 5 सदस्यीय विशेषज्ञ समिति का गठन किया गया है। इसमें परिवहन विभाग के महाप्रबंधक, सिटी बसों के परियोजना निदेशक, संयुक्त निदेशक, सेवा प्रबंधक और आईआईटी के एक इंजीनियर शामिल हैं। कथित तौर पर, ये अधिकारी बसों के ट्रायल रन का आकलन करेंगे और उसके बाद इसके संबंध में एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेंगे।

इस निरीक्षण के परिणामों का गहन विश्लेषण करने के बाद ही बसें राज्य में लाई जाएंगी। रिपोर्टो के अनुसार, यह योजना बनाई गई है कि परियोजना के पहले चरण के तहत राज्य में 400 से अधिक बसें पेश की जाएंगी, यदि मौजूदा परीक्षण सफल रहता है।

- इनपुट: दैनिक जागरण