उत्तर प्रदेश में कोरोना से भयावह स्थिति पैदा हो गई है, ऐसे में कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए सरकार लखनऊ कानपुर समेत उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों में लॉकडाउन लगा दिया है ताकि कोरोना के संक्रमण के प्रसार को रोका जा सके और आम जनता को इस घातक वायरस से सुरक्षित रखा जा सके। लेकिन ऐसा देखने में आया है की लॉकडाउन में भी कई लोग अनावश्यक तरीके से अपने घरों से बेवजह बहार घूम रहे हैं। ऐसे लोगो के अनावश्यक आवगमन पर सख्ती से रोक लगाने के लिए सरकार नें अब ई-पास की व्यवस्था लागू कर दी है।

प्रदेश सरकार नें लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं व सेवाओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए ई-पास जारी करने का फैसला किया है। अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार ने इस संबंध में दिशानिर्देश जारी कर दिए है। अपर मुख्य सचिव नें निर्देश दिया है की आम जनता चिकित्सा सेवाओं को प्राप्त करने के लिए भी ई-पास के लिए आवेदन कर सकतें हैं। इसके साथ ही यह भी कहा है की यदि किसी क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति आम जनता में नहीं हो रही है तो इसकी शिकायत मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 पर कर सकते हैं।

सभी आवेदक ई-पास के लिए http://164.100.68.164/upepass2/Apply.aspx के माध्यम से ऑनलाइन आवदेन कर सकतें हैं। जिले की सीमा में पास जारी करने का अधिकार उपजिलाधिकारी को दिया गया है। वहीं प्रदेश के सीमा के भीतर अंतर्जनपदीय ई-पास के लिए जिलाधिकारी द्वारा नामित अपर जिलाधिकारी अधिकृत होंगे। संस्थानों के लिए जारी ई-पास लॉकडाउन की संपूर्ण अवधि के लिए होगा, जबकि आम जनता के लिए जारी जनपदीय ई-पास की वैधता मात्र 1 दिन और अंतर्जनपदीय ई-पास की 2 दिन होगी। प्रदेश के बाहर के राज्यों के लिए ई-पास आवेदक के प्रस्थान जिले से संबंधित जिले के डीएम द्वारा जारी किए जाएंगे।

ई-पास आवेदन की मदद के लिए अधकारी नामित किये गए हैं।

रामकेवल, विशेष सचिव राजस्व (मोबाइल नंबर - 9411006000)

चद्रकांत प्रोजेक्ट एक्सपर्ट ( मोबाइल नंबर - 9411006000) व्हाट्सप्प नंबर - 9454411081

रहत आयुक्त कार्यालय नंबर - 0522 -2238200