कोरोना कि संभावित तीसरी लहर और बच्चों पर इसके गंभीर प्रभावों को देखते हुए, उत्तर प्रदेश सरकार कई उपायों की एक सूची तैयार कर रही है। इन्हीं उपायों के बीच, राज्य के अधिकारी बच्चों को उनकी प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए अधिक जानकारी प्रदान करने के लिए 'आयुष कवच' से जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। बच्चों को वायरस से बचाने के लिए आयुर्वेद आधारित दवाएं और घरेलू उपचार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से इस पहल को लागू किया जाएगा।

तीसरी लहर से निपटने के लिए बाल चिकित्सा वार्ड स्थापित किए जा रहे हैं


यह उम्मीद की जा रही है कि यह कार्यक्रम आयुर्वेद के उपयोग से बच्चों को सुरक्षा प्रदान करेगा। साथ ही राज्य प्रशासन तीसरी लहर से लड़ने के लिए अन्य योजनाओं पर भी काम कर रहा है। जहां हर जिले में 100 बाल चिकित्सा बेड स्थापित करने के निर्देश जारी किए गए हैं, वहीं चिकित्सा शिक्षा विभाग ने राज्य भर के मेडिकल कॉलेजों और संस्थानों में 432 बाल चिकित्सा आईसीयू (पीआईसीयू) इकाइयां स्थापित की हैं।

अधिकारियों द्वारा इस प्रक्रिया में तेज़ी लाई जा रही है और ऐसी उम्मीद है कि पीआईसीयू वार्ड जल्द ही किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) और लखनऊ में राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में उपलब्ध होंगे। जहां RMLIMS में 120 बेड की सुविधा होगी, वहीं वर्तमान योजनाओं में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में 54 बेड का PICU स्थापित करना शामिल है।

एक सरकारी प्रतिनिधि के अनुसार, "जापानी इंसेफेलाइटिस (Japanese Encephalitis) से निपटने के लिए बनाए गए कुल 38 अस्पतालों को भी संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए शामिल किया गया है, जिससे विशेषज्ञों को डर है कि इससे बच्चे अधिक प्रभावित होंगे।"

राज्य भर में कई उपाय किए जा रहे हैं


विशेषज्ञों के एक समूह ने 10 बेड के पीआईसीयू के लिए आवश्यक प्रशिक्षित कर्मचारियों, चिकित्सा संसाधनों और दवाओं की सूची तैयार की है। इसी को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने आवश्यक सामग्री की खरीद के लिए संबंधित निर्देश जारी किए हैं।

आगामी परिस्थितियों पर सख्त और सक्रिय जांच करने के लिए, संस्थान के निदेशक के नेतृत्व में लखनऊ के पीजीआई में अनुभवी डॉक्टरों की एक समिति बनाई गई है। राज्य की राजधानी में प्रतिबद्ध प्रयासों के अलावा, झांसी, अमेठी, मथुरा, मुरादाबाद, अयोध्या, गोरखपुर, मेरठ, चित्रकूट, लखनऊ, आजमगढ़ और अन्य जिलों में भी केंद्रित हस्तक्षेप पर काम किया जा रहा है।

कहा गया है कि प्रतापगढ़, प्रयागराज, जालौन और कौशांबी में जल्द ही बच्चों के लिए आईसीयू बेड तैयार किए जाएंगे। इसके अलावा, चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव, आलोक कुमार ने आश्वासन दिया कि विशेषज्ञ सलाहकार समिति द्वारा विस्तृत निर्देश जारी करने के बाद तेजी से काम शुरू किया गया है।

- आइएनएस द्वारा मिली जानकारी के अनुसार