लखनऊ में चिकित्सा के मौजूदा बुनियादी ढ़ांचे पर बोझ कम करने के लिए रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (Defence Research Development Organisation) द्वारा विकसित कोविड अस्पताल, आज से मरीजों को भर्ती करना शुरू कर देगा। दो सप्ताह के रिकॉर्ड समय में स्थापित, अवध शिपग्राम में 500-बेड की यह सुविधा, लखनऊ के सांसद और देश के रक्षा मंत्री द्वारा आदेश जारी होने के बाद बनाई गई है।

भारतीय सशस्त्र बलों के मेडिकल और पैरामेडिकल स्टाफ को यहां तैनात किया जाएगा


रिपोर्ट के अनुसार इस अस्पताल में लगे 500 बेड के साथ, शहर में बेड की गिनती 7,000 हो गई है। डीआरडीओ के निदेशक, नरेंद्र कुमार आर्य ने कहा, "लखनऊ के अवध शिल्पग्राम में अस्थायी अस्पताल बुधवार दोपहर से चालू होगा। अस्पताल में 500 बेड की क्षमता है, जिसमें 150 आईसीयू और 350 सामान्य बेड शामिल हैं, जो ऑक्सीजन की सुविधा से लैस हैं।"

भारतीय सशस्त्र बलों के चिकित्सा अधिकारी और पैरामेडिकल स्टाफ इस परिसर में रोगियों की देखभाल करेंगे। ऑक्सीजन प्लांट के अलावा, WHO प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए, एक सेंट्रलाइज्ड एसी सिस्टम (centralised AC system) भी इस अस्थायी अस्पताल में स्थापित किया गया है। इसके अलावा, गंभीर रूप से बीमार रोगियों की जान बचाने के लिए वेंटिलेटर भी यहाँ उपलब्ध है।

इस नवीनतम केंद्र में प्रवेश लेने के इच्छुक सभी रोगियों को इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर (ICCC) के माध्यम से तय प्रक्रिया से गुजरना होगा। DRDO अधिकारियों द्वारा निर्मित इस सुविधा को ICCC वेब पोर्टल के लिए एक विशिष्ट लॉगिन आईडी और पासवर्ड दिया गया है। इस प्लेटफ़ॉर्म पर लोगों को बेड की उपलब्धता जैसी सभी जानकारी मिलेगी।

इस सुविधा पर होगा कोविड रोगियों के लिए नि: शुल्क उपचार


मंगलवार को अस्पताल का निरीक्षण करने के बाद, डीएम ने पुष्टि की कि यह जगह ऑक्सीजन के निरंतर स्टॉक से लैस होगी और बिजली की नियमित आपूर्ति के लिए प्रावधान भी किए गए हैं। इसके अतिरिक्त, इस जगह को स्वच्छ और सुरक्षित रखने के लिए लगतार परिसर को डिस्इंफेक्ट और सेनेटाइज़ किया जाएगा।

डीआरडीओ चिकित्सक द्वारा जारी किए गए बयानों के अनुसार, इस सुविधा पर मुफ्त उपचार दिया जाएगा। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि इस केंद्र में दिए जाने वाले भोजन और दवाओं के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। इसके अलावा, परिसर में रोगियों के रिश्तेदारों के लिए अतिरिक्त व्यवस्थाएं की गई हैं।

मौजूदा स्थिति को देखते हुए, इस सुविधा का औपचारिक रूप से उद्घाटन नहीं किया जाएगा, लेकिन सीएम इस अस्पताल का दौरा करेंगे। इससे पहले, DRDO ने दिल्ली और अहमदाबाद में कोविड रोगियों के लिए ऐसे प्रतिष्ठानों का सफलतापूर्वक निर्माण किया है।