ठंड के मौसम में प्रदुषण की समस्या से निपटने के लिए लखनऊ नगर निगम ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसके लिए नगर निगम ने 5 एंटी स्मॉग गन ख़रीदे हैं, जबकि नगर निगम के पास पहले से 3 एंटी स्मॉग गन मशीनें पहले से है। सर्दी के मौसम में वायु प्रदुषण से निपटने के लिए लखनऊ की सड़कों पर एंटी स्मॉग गन मशीन से लैस 8 ट्रक शहर की सड़कों पर दौड़ेंगे। सर्दी के मौसम में प्रदुषण को खत्म करने के लिए नगर निगम प्रदुषण नियंत्रण विभाग से भी मदद लेगा। नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी ने बताया कि प्रदुषण विभाग से संवेदनशील इलाकों की सूचि ली जाएगी और उन इलाकों में इन एंटी स्मॉग गन मशीनों का प्रमुखता से उपयोग किया जाएगा।

बीते कुछ सालों में खतरनाक स्तर पर पंहुचा प्रदुषण

लखनऊ में बीते कुछ सालों में प्रदुषण काफी बढ़ा है और यह हर साल बढ़ता ही जा रहा है जिससे शहर का एयर क्वालिटी इंडेक्स खतरनाक स्तर पर पंहुचा चूका है। विश्व वायु गुणवत्ता रिपोर्ट 2020 के अनुसार, लखनऊ को दुनिया के 9वें सबसे प्रदूषित शहर के रूप में स्थान दिया गया था। रिपोर्ट में भी यह बताया गया कि सामान्य कारणों के अलावा तापमान में गिरावट के कारण सर्दियों के मौसम में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ जाता है। वातावरण में कोहरा और दूषित हवा के साथ छोटे छोटे कणों के घुल जाने से हवा स्थिर हो जाती है जिससे स्मॉग की समस्या बढ़ जाती है और लोगों को सांस लेने में दिक्कत होती है साथ ही विजिबिलिटी भी प्रभावित होती है।

ऐसे काम करती है एंटी स्मॉग गन मशीन

ट्रक पर लगी एंटी स्मॉग गन के साथ अलग अलग क्षमता की पानी की टंकी लगाई जाती है। एंटी-स्मॉग गन में एक वैक्यूम पंप के साथ हाई प्रेशर फैन होता है। इसमें लगा वैक्यूम पंप आसपास की प्रदूषित वायु को खींचकर पानी भरे टैंक में कंप्रेस कर देता है। इस तरह वायु में प्रदुषण के कण पानी में घुल जाते हैं। इसके बाद हाई प्रेशर फैन से इस हवा को बाहर छोड़ दिया जाता है। इससे हवा में मौजूद स्मॉग निचे आ जाता है और हवा साफ हो जाती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *