लखनऊ शानोशौकत का शहर है जहां खूबसूरत इमारतें देखने के साथ-साथ यहां के खाने का ज़ायका आपको लखनऊ की याद दिलाता रहेगा। लखनऊ के बारे में अगर ऐसा कहा जाए तो गलत नहीं होगा कि यह जगह खाने का शौक रखने वालों के लिए जन्नत से कम नहीं है। लखनऊ अपनी खातिरदारी के लिए दुनिया भर में मशहूर है और इस नर्मदिल शहर के आँगन में हर प्रकार के खाने का शौक रखने वालों के लिए दशकों से भरपूर जगह रही है। शहर के अनुकरणीय ज़ायके आपकी ज़बान पर लम्बे समय तक अंकित रहेंगे। वैसे तो शहर में आपकी खाने की इच्छाओं को सच करने के लिए खाने की कई मशहूर जगह हैं और पिछले कुछ समय में नयी नयी जगहों के आने से शहर की रसोई का आलम भी बदला है। लेकिन हम कुछ 25 जगहों एक एक सूची आपके लिए लाये हैं जो लखनऊ में दशकों से समय के बदलावों की कसौटी पर खरे उतरे हैं।

इदरीस की बिरयानी


मोहम्मद इदरीस द्वारा 1968 में स्थापित, इदरीस में आपको अतुलनीय मुग़ल ज़ायके मिलेंगे और लखनऊ में बिरयानी के प्रेमियों के लिए इदरीस की बिरयानी बेहद मनपसंद स्पॉट है, और इसे लखनऊ के चौक इलाके के कई खाने के रत्नों में से एक माना जाता है। बीते सालों में इदरीस की बिरयानी ने लखनऊ में अपनी जो बेजोड़ जगह बनायी है उसे देखते हुए आपको दिन में यहां थोड़ा जल्दी आना होगा क्यूंकि इस लज़ीज़ बिरयानी को खतम होने में बिलकुल देर नहीं लगती।

स्थान - जौहरी मोहल्ला, राजा बाजार, चौक, लखनऊ

रॉयल कैफ़े


लखनऊ शहर के सबसे लोकप्रिय खाने की जगहों में से एक है हज़रतगंज का रॉयल कैफ़े जिसके चाहने वाले आपको लखनऊ और आस पास की सब जगहों में मिलेंगे। विशेष रूप से उनकी मशहूर बास्केट चाट खाने के लिए लोग दूर दूर से आते हैं और वास्तव में लखनऊ में आपकी यात्रा रॉयल कैफ़े के बिना अधूरी है। यहां पर आप टोकरी चाट के अलावा उनकी लज़ीज़ आलू की टिक्की का भी लुत्फ़ उठा सकते हैं।

स्थान - 51, साहू सिनेमा के सामने, एमजी मार्ग, हजरतगंज, लखनऊ

सरदार जी के मशहूर छोले भटूरे


सरदार जी के छोले भटूरे लखनऊ में बहुत पहले से लोगों के मनपसंद रहे हैं। लालबाग़ की नोवेल्टी क्रासिंग के पास स्थित इस दुकान के नर्म भठूरे में लिपटा हुआ मसालों के सटीक मिश्रण से बने छोले का पहला निवाला जब आपके मुँह में जाएगा तो आपका मुँह और मन दोनों झूम उठेगा और इसके बाद यहां का लज़ीज़ हलवा खाना न भूलें।

स्थान - 16/ए, नवीनता सिनेमा के पास, लालबाग, लखनऊ

रहीम की निहारी


1890 में हाजी रहीम साहेब द्वारा शुरू की गयी इस दुकान में आपको लखनऊ की सबसे बेहतरीन मटन निहारी मिलेगी। आप जब भी लखनऊ के पुराने इलाकों से गुज़रें तो रहीम जाना न भूलें और वहां कुलचे के साथ रसीली निहारी का स्वाद लेने के अलावा, आपको पाए, शीरमल और काकोरी कबाब भी जरूर ट्राई करना चाहिए।

स्थान - अकबरी गेट, शाहगंज, लुकनोव

जे जे बेकर्स


लखनऊ में अनेक बेकरियों के मौजूद होने के साथ जेजे बेकर्स शहर में दो दशकों से अधिक से लोगों के मन को अपने केक, पेस्ट्री और तरह तरह के नाश्तों से जीतता आया है। जेजे बेकर्स हज़रतगंज में एक छोटी सी आउटलेट के रूप में शुरू हुआ था और अब इसके शहर में 7 आउटलेट हैं। यहां आपको अनेक प्रकार की ब्रेड, बिस्कुट, कूकीज और केक,पेस्ट्री मिल जाएगा। जेजे बेकर्स शहर में फोंडाण्ट केक या फिर 3डी केक लेकर आये और अब शहर की सबसे बड़ी बेकरियों में से एक हैं।

स्थान - जहांगीर हवेली, 1, अशोक मार्ग, हजरतगंज, लखनऊ

पैट-ए-केक


शहर भर में कई आउटलेट के साथ पैट ए केक बेकरी लखनऊ की शुरूआती बेकरियों में से एक है। यह केक की दूकान सन 2000 में स्थापित हुई थी और तब से शहर वासियों को बेहद स्वादिष्ट केक, पेस्ट्री और अन्य मीठी मीठी चीज़ें बनाकर खिला रहे हैं और शहर में नॉन देसी मीठा खाने के शौकीन लोगों के लिए यह स्थान दो दशक पहले वरदान बनकर आया।

लोकेशन - 4/186, विशाल खंड, गोमती नगर, लखनऊ

दस्तरखान


हजरतगंज में मुग़ल दस्तरखवां अवध के ऐतिहासिक मुगलई स्वादों को चखने के लिए सटीक जगह है। स्वादिष्ट गलावटी कबाब और मटन रोगन जोश से लेकर चिकन बिरयानी और शमी कबाब तक, यह रेस्टोरेंट नॉन वेज लोगों के लिए बेहतरीन जगह है। दस्तरख्वान को अक्सर लखनऊ की सबसे लाजवाब खाने की जगहों की सूची में शामिल किया जाता है। दस्तरख्वान जाईये और गारंटी है की आप बड़ी मुस्कान और संतुष्ट पेट के साथ बाहर निकलेंगे।

स्थान - 20, वाला कादर रोड, डीएम कंपाउंड कॉलोनी, कैसरबाग ऑफिसर्स कॉलोनी, कैसरबाग, लखनऊ

ओपन एयर रेस्टोरेंट


वर्ष 1990 में स्थापित हुआ ओपन एयर रेस्तरां मांसाहारी व्यंजनों के लिए एक उत्कृष्ट जगह है। खुली हवा वाला यह स्थान, यह भोजनालय काकोरी कबाब और गलवटी कबाब के शौकीनों को सालों से परोसता आ रहा है !

स्थान - तुलसी थिएटर के पास, चाइना गेट बाजार रोड, लालबाग, लखनऊ

शुक्ला चाट हाउस


लखनऊ की एक और ऐसी जगह है जहां आप दिन भर शहर के लोगों को बातें करते हँसते बोलते देखेंगे और वह है शुक्ला चाट हॉउस। लखनऊ की सबसे पुरानी चाट की दुकानों में से एक है और यहां आलू की टिक्की से आपका पेट तो भर जाएगा लेकिन मन नहीं भरेगा। तो अगली बार जब आपको दोस्तों के साथ कुछ मज़ेदार पल बिताने हों तो शुक्ल चाट हाउस आईये और गरमा गरम टिक्की का आनंद लीजिये।

स्थान - 11 शाहनजफ रोड चर्च भवन, हजरतगंज, लखनऊ

कूल ब्रेक


लखनऊ में अगर आपको दोस्तों के साथ चाइनीज़ और कॉन्टिनेंटल खाने का मन है लेकिन आप बहुत अधिक खर्च नहीं करना चाह रहे तो जवाहर भवन के सामने कूल ब्रेक जाईये और कम खर्च में बेहतरीन खाना खाइये। यहां पर ड्रम्स ऑफ़ हेवन खाना न भूलियेगा, हमारा यकीन है की आप बार बार जाना चाहेंगे।

स्थान - 17/3, इंडियन ऑयल पेट्रोल पंप के सामने, अशोक मार्ग, हजरतगंज, लखनऊ

प्रकाश कुल्फी


जब हम दुनिया भर में प्रसिद्द लखनऊ के प्रमुख व्यंजनों की बात कर रहे हों, और प्रकाश की कुल्फी का नाम सर्वोत्तम न आये, ऐसा वास्तव में संभव नहीं है। 7 लम्बे शानदार दशकों से अपनी गुणवत्ता और स्वाद को बेहतरीन रखते हुए यह प्रतिष्ठान लखनऊ के रसोईं परिदृश्य और विरासत का अहम हिस्सा है। 1965 में स्वर्गीय श्री प्रकाश चंद्र अरोड़ा द्वारा शुरू की गई, इस कुल्फी की दुकान में अपने क्लासिक स्वाद के साथ, वे स्ट्रॉबेरी, बटरस्कॉच, नारियल और चॉकलेट वेरिएंट भी परोसते हैं और उनमें से हर स्वाद को ज़रूर चखना चाहिए !

स्थान - 12 और 13, फ्रूट लेन, अमीनाबाद मार्केट, लखनऊ

नेतराम अजय कुमार


लगभग एक सदी पुरानी नेतराम मिठाई की दूकान लखनऊ भर में अपने नाश्ते के लिए शहर भर में मशहूर रही है। यहां पर जो पूड़ी के साथ चार तरह की सब्ज़ी परोसी जाती है वो आपकी दिन की शुरुआत को देसी स्वादों से भर देगी।

स्थान - श्री राम रोड, मोहन मार्केट, कमला मार्केट, स्वदेशी मार्केट, अमीनाबाद, लखनऊ

सखावत


1960 से लेकर अभी तक यह रेस्टोरेंट अवध जिमखाना क्लब के पास कैसरबाग़ एवेन्यू पर चलता आ रहा है और यहां के शामी कबाब दशकों से लखनऊ वासियों के मनपसदं रहे हैं। मटन खड़ा मसाला यहां पर जब आप खायेंगे तो चाहे आप देश विदेश में कहीं भी जाएँ सखावत की तारीफ करना नहीं भूलेंगे। सखावत में सिर्फ खिलाया ही नहीं अवधी खाना बनाना भी सिखाया जाता है।

स्थान - एवेन्यू, अवध जिमखाना क्लब के पास, कैसरबाग ऑफिसर्स कॉलोनी, कैसर बाग, लखनऊ

मार्क्समैन


मार्क्समैन शहर के सबसे प्रसिद्द खाने के स्पॉट में से एक है। यदि आप साउथ इंडियन खाने और चाइनीज़ खाने के शौक़ीन हैं तो मार्क्समैन के बिना आपकी हज़रतगंज की यात्रा अधूरी है। गरमा गरम कुरकुरे डोसे का मक्खन युक्त स्वाद और मसालों के सटीक मिश्रण से बने सांभर का स्वाद आपके साथ रह जाएगा।

स्थान - 2 और 3, हजरतगंज लखनऊ, मकबरा रोड, हजरतगंज, लखनऊ

शर्मा की चाय


लखनऊ में अगर चाय पर चर्चा के लिए सबसे लोकप्रिय कोई जगह है तो वह है हज़रतगंज में स्थित शर्मा जी की चाय, जहां रोज़ाना सुबह शाम आपको हर उम्र के लोग हँसते बोलते मिल जाएंगे। ये चाय की दुकान लखनऊ में 50 सालों से ज़्यादा से है और अब भी यह केवल 6 चीज़ें बनाते हैं। यहां की कुल्हड़ चाय और बन मक्खन पूरे भारत में मशहूर है और यहां के समोसे आपको बार बार खींच कर वापस ले जाएंगे। मौसम कोई भी हो, समय कोई भी हो, मौका कोई भी हो लखनऊ के लोग आपको शर्मा चाय पर चाय की चुस्कियां लेते हुए मिल जाएंगे।

स्थान - लालबाग, हजरतगंज, लखनऊ

टुंडे कबाबी


टुंडे कबाबी के बारे में काफी कुछ कहा और लिखा जा चुका है। इसने गॉर्डन रामसे और नसीरुद्दीन शाह जैसे अंतरराष्ट्रीय नामों की मेजबानी की है और हम सभी जानते हैं कि क्यों। टुंडे के लोग जानते हैं कि क्लासिक गलावटी कबाब को किस तरह से बनाया जाता है- नरम और स्वादिष्ट कबाब जब आपके मुँह में पिघलेंगे तो आप भी हमारी तरह टुंडे के दीवाने हो जाएंगे ।

स्थान - अमीनाबाद

न्यू जोन हिंग


सबसे पुराने चाइनीज फूड जॉइंट्स में से एक, जोन हिंग अपनी शुरुआत से ही बेहतरीन चिकन फ्राइड राइस और चिली चिकन परोस रहा है। लखनऊ में सबसे बेहतरीन चाइनीज़ जॉइंट्स में से एक इस स्थान में यदि आप दोपहर का भोजन या रात का खाने के लिए आएं, समय चाहे कोई भी हो यहां का चाइनीज़ स्वाद आपकी जुबां पर रह जाएगा।

स्थान - 77, सेनको ज्वैलर्स के सामने, एमजी मार्ग, हजरतगंज, लखनऊ

आलमगीर


अमीनाबाद की गलियों में स्थित आलमगीर लाजवाब मुग़लई खाने के लिए जाना जाता है और यहां की जो चीज़ सबसे अधिक मशहूर है वह भुना हुआ चिकन है और मटन बिरयानी है, यहां का शाही टुकड़ा भी बेहद लज़ीज़ है।

स्थान - नाज़ सिनेमा रोड, अमीनाबाद मार्केट, लखनऊ

दाल में काला


अपने अफगान चिकन, मटन बुरा, कढ़ाई मुर्ग के लिए प्रसिद्द, दाल में काला मशहूर 'लालबाग की गलियों का स्वाद' का पर्याय है। एक सदियों पुराना भोजनालय जो स्वाद और क्वालिटी के दम पर यहां तक पहुंचा है, दाल में काला आपको सबसे स्वादिष्ट तरीके से पुराने लखनऊ का स्वाद देता है। लखनऊ में जब कभी भी आप स्वादिष्ट खाने का दौरा करने निकलें तो दाल में काला जाना न भूलें।

स्थान - 1, चाइना गेट बाजार रोड, तुलसी सिनेमा के पीछे, लालबाग, लखनऊ

रोवर्स


हज़रतगंज स्थित रोवर्स रेस्टोरेंट अनेक प्रकार के रोल्स खिलाकर शहर के लोगों का बहुत सालों पहले से दिल जीत रहा है और पुराने समय में रोवर्स शहर का एकमात्र ऐसा जॉइंट हुआ करता था जहां दोस्त मिलकर घंटों तक खाते पीते और मज़े करते थे। अगर आप मीट खाने के शौक़ीन हैं तो यहां कॉफ़ी के साथ मटन फ्रैंकी खाना न भूलियेगा।

स्थान - जीपीओ के सामने, एमजी मार्ग, हजरतगंज, लखनऊ

कैपेचीनो ब्लास्ट


2000 के दशक की शुरुआत में शुरू हुआ कैफ़े के दौर को लखनऊ शहर में Cappuccino Blast ने शुरू किया और पांच टेबल और कुछ खाने के व्यजनों से शुरू हुआ यह कैफ़े धीरे धीरे लखनऊ के लोगों में बेहद प्रचलित हो गया और शहर के लोग प्यार से इस जगह को कैप्पी कहकर पुकारते हैं। अब लखनऊ में इतने कैफ़े मौजूद हैं लेकिन कैप्पी हमेशा हमारा पहला प्यार रहेगा। यहां बॉलीवुड फ़िल्म शादी में ज़रूर आना का एक सीन शूट किया गया है और इसी तरह कई लोग पहली बार किसी ख़ास से मिलने के लिए कैपी जाते हैं।

स्थान - मॉल एवेन्यू

रत्तीलाल


लखनऊ शहर में रत्तीलाल 1937 से हमारे नाश्ते में स्वाद और मनोरंजन भर रहे हैं। अपने बेहद स्वाद से भरे हुए खस्तों के ज़रिये रत्तीलाल ने लखनऊ शहर में खस्तों के दौर को लोकप्रिय किया और यहां से कोई खाली पेट घर नहीं जाता। यहां पर बनने वाली मीठी मीठी चाशनी से लिपटी जलेबियाँ और बादाम दूध खस्तों के साथ मिलकर आपकी सुबह को और लुभावना बना देंगे।

लोकेशन - बी-12, सान्या मार्किट, रत्तीलाल चौराहा, शिवाजी मार्ग, अमीनाबाद, लखनऊ

छेदी लाल रामप्रसाद वैश्य- शेक्स के राजा


चाहे कितने भी मॉडर्न शेक्स की आउटलेट शहर में खुल जाएं लेकिन लखनऊ के लोग आज भी शेक पीने के लिए छेदीलाल ही जाते हैं। 1922 से लोगों को अपने ठन्डे ठन्डे शेक्स से तरावट पहुंचाने वाला छेदीलाल में अनेक तरह के शेक मिलते हैं जैसे लीची,स्ट्रॉबेरी,कोल्ड कॉफ़ी लेकिन आप यहां के मैंगो शेक के पहले ही घूँट में दीवाने हो जायेंगे।

स्थान - 31.67, एमजी रोड, हजरतगंज, लखनऊ

जीपीओ के दही बड़े


करीब 20 साल पहले सुर पाल सिंह द्वारा प्यार से शुरू किये गए GPO के ठन्डे दही बड़े शहर के सबसे बेहतरीन दही बड़े हैं। यहां के हलके खट्टे मीठे दही बड़े आपके मुँह में इस तरह घुल जाएंगे की आपको उनसे प्यार हो जाएगा। यहां पर बनने वाला दही समोसा बहुत से लोगों का मनपसंदीदा है और हमें विश्वास है की इन दही बड़ों का स्वाद आपके मन को मोह लेगा।

लोकेशन - नरपत खेरा, लखनऊ.

वाहिद बिरयानी


1955 से शहर को अपनी अवधी ज़ायकों से लुभाने वाली वाहिद की बिरयानी को 55 सामग्रियों की मदद से बनाया जाता है और पुराने लोगों का कहना है की उन्होंने आज तक बिरयानी का स्वाद और क्वालिटी बनाये रखा है। जब भी आप लखनऊ में हों तो आप चिकन बोटी कबाब और पराठे के अतुलनीय मुग़लई स्वादों को चखना न भूलें। लोगों को दशकों से लज़ीज़ बिरयानी खिलाकर उनका मनोरंजन करने के अलावा महामारी के समय जब शहर में ज़रूरतमंदों को खाने की ज़रुरत थी तब वे मदद का हाँथ बढ़ाने में पीछे नहीं हटे और इस मुश्किल समय में अपने वादे पर खरे उतरे।

स्थान - नाज़ सिनेमा रोड, अमीनाबाद मार्केट, लखनऊ

नॉक नॉक

अब जब हमने लखनऊ के इन 25 प्रतिष्ठित भोजनालयों के बारे में बता दिया है, तो आपको उन्हें जल्द से जल्द आज़माना होगा और देखना होगा की आपके स्वाद से कौन सी जगहें मेल खाती हैं। यदि आप इन्हें अपनी चेकलिस्ट में नहीं डालते हैं, तो आपका लखनऊ में खाने का सफर अधूरा रहेगा, इसलिए कोरोना महामारी से उत्पन्न परिस्थितियां जब स्थायी हो जाएँ तब आप अवश्य इन स्थानों पर जाएँ और देखें की लखनऊ क्यों दुनिया भर में खाने के लिए मशहूर है।