जैसे ही शहर सामान्य स्थिति में लौट रहा है, लखनऊ मेट्रो अपने दैनिक यात्रियों के लिए कई लाभ लेकर आयी है। एक सुरक्षित और स्वच्छ यात्रा का भरोसा देते हुए उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के अधिकारियों ने कई उपाय किए हैं। उल्लेखनीय उपायों में, यात्रियों की सुरक्षा के लिए यात्रा टोकन का यूवी-रे सैनिटाइज़शन प्रमुख है।

यात्रियों की सुरक्षा को प्राथमिकता दी जा रही है



हाल ही में, मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने अपने फेसबुक अकाउंट से यह बताया कि मेट्रो सुविधा के फिर से शुरू होने के 15 दिनों के भीतर यात्रियों की संख्या में चार गुना वृद्धि हुई है। विशेष रूप से, यह उपलब्धि इसके अतिरिक्त, सभी यात्रियों को उनके प्रवेश से पहले स्कैन और सैनिटाइज भी किया जाता है।

इसके अतिरिक्त, सभी यात्रियों को उनके प्रवेश से पहले स्कैन और सैनिटाइज भी किया जाता है। यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरशन द्वारा लागू किए जा रहे उपायों की व्यापक सूची को देखते हुए, यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन अपने दावे पर खरा उतरा है कि लखनऊ मेट्रो स्थानीय परिवहन का सबसे सुरक्षित साधन है। जबकि सुरक्षा सम्बन्धी साधन बढ़ा दिए गए हैं, आप निम्नलिखित 7 चीज़ों का पालन करके सुरक्षा को और अधिक मजबूत करने में मदद कर सकते हैं!

मास्क और दस्ताने अनिवार्य



हालाँकि यह अब तक एक आदत बन गई होगी, आप बिना मास्क, दस्ताने और सैनिटाइज़र के बाहर निकलने के बारे में सोच भी नहीं सकते। यात्रा के दौरान, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप अपने और आपके साथी यात्रियों के लिए एक सुरक्षित यात्रा का ध्यान रखते हुए ठीक से मास्क पहने हों। कई विशेषज्ञों ने डबल मास्क के लाभों के बारे में बताया है, इसलिए हमेशा सलाह दी जाती है कि आप अपने आप को सर्वोत्तम तरीके से कवर करें!

सीढ़ी और एस्केलेटर की रेलिंग को छूने से बचें



आपको हमेशा याद रखना चाहिए कि संक्रमित सरफेस वायरस के प्रसार के प्रमुख स्रोतों में से एक हैं। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप स्टेशन परिसर में सीढ़ियों और एस्केलेटर और अन्य चीजों की रेलिंग को न छुएं। यह केवल तभी है जब हम सभी अपने व्यवहार को ऐसे बुनियादी मानदंडों से जोड़ दें कि हम घातक वायरस से बच सकते हैं!

कोच की वस्तुओं के साथ कम से कम हाथ से संपर्क बनाए रखें



जब आप कोच में प्रवेश करते हैं, तो आपको अपने कार्यों के बारे में अधिक सतर्क रहना होगा। जबकि मेट्रो कोच कई सुविधाओं से सुसज्जित हैं, यूपीएमआरसी के अधिकारियों ने यात्रियों से अपील की है कि वे ग्रैब पोल और ग्रैब हैंडल के संपर्क से बचें। कई लोगों द्वारा लगातार उपयोग को देखते हुए, ये वस्तुएं आपको वायरस दे सकती हैं।

लिफ्ट में भीड़ नहीं



यूपीएम्आरसी ने यात्रियों से यह ध्यान रखने का अनुरोध किया है कि एक ही समय में दो से अधिक लोग लिफ्ट का उपयोग न करें। इसके अतिरिक्त, नागरिकों को पर्याप्त दूरी बनाय रखते हुए हाइलाइट किए गए स्थानों पर खड़ा होना चाहिए। कुल मिलाकर, स्टेशन परिसर के सभी क्षेत्रों में सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है और यह तभी संभव हो सकता है जब हम अपनी गतिविधियों की बार-बार निगरानी करें।

यात्रा के दौरान सामाजिक दूरी बनाये रखें



अधिकारियों ने उन सीटों को चिन्हित कर लिया है जिनका उपयोग यात्री यात्रा के दौरान कर सकते हैं। इसलिए, यह उचित है कि यात्री केवल विशिष्ट स्थानों को ही लें और दो लोगों के बीच कम से कम एक खाली सीट का अंतर बनाए रखें। इसके अलावा, कोचों में खड़े होने के दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग प्रोटोकॉल का सावधानीपूर्वक पालन किया जाना चाहिए। मेट्रो में यात्रियों की बढ़ती संख्या के साथ, नागरिकों को तीसरी लहर की संभावनाओं पर लगाम लगाने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए!

गो स्मार्ट कार्ड के साथ 'संपर्क रहित' एंट्री करें



आप गो स्मार्ट कार्ड चुनकर अपनी सुरक्षा को अपग्रेड कर सकते हैं। यूपी मेट्रो रेल के अनुसार, आप एक संपर्क रहित एंट्री करने में सक्षम होंगे क्योंकि एएफसी गेट बिना कार्ड टैप किए खुलेंगे। इसके अलावा, आप अपनी यात्रा के लिए 10% की छूट का भी लाभ उठा सकेंगे और अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के लिए टोकन खरीदना भी आसान हो जाएगा। इसलिए, यदि आप अक्सर यात्रा करते हैं, तो आपको गो स्मार्ट कार्ड पकड़ना होगा और एक स्मार्ट यात्री बनना होगा!

कोच यात्रा से पहले और बाद में अपने हाथों को साफ करें



हैंड सैनिटाइजेशन कोरोना वायरस के खिलाफ सबसे मजबूत हथियारों में से एक है। मेट्रो के डिब्बों में होने वाले संपर्क को देखते हुए, आपको कोच में प्रवेश करने से पहले और बाहर निकलने के बाद अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए। इस प्रकार, एक सैनिटाइज़र आपके पास होना ही चाहिए।

नागरिकों का सहयोग है समय की मांग!

अब, जबकि मेट्रो अधिकारियों ने हमारी सुरक्षा और भलाई के लिए पर्याप्त उपाय किए हैं, हमारे लिए यह आवश्यक हो जाता है कि हम जहां भी आवश्यक हो वहां सहयोग करने से पीछे न हटें। अन्य सभी बातों के अलावा, कोरोना का उचित व्यवहार और बताए गए दिशानिर्देशों और प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है। याद रखें कि एक तीसरी लहर का डर लगातार चारों ओर बढ़ा हुआ है और हमें वायरस को अपने जीवन में वापस बुलाने का कोई मौका नहीं देना चाहिए!