मुख्य बिंदु

लखनऊ में संक्रमण दर आठ दिन में 22% से गिरकर 13% पर आ चुकी है।
शहर में 26 जनवरी को 2096 तो 27 जनवरी को 1491 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।
कोरोना की तीसरी लहर में अब तक लखनऊ में 11 लोगों की मौत हो चुकी है।
डॉक्टरों का मनना है कि ज्यादातर मौते पहले से जटिल बिमारियों की चपेट में रहे लोगों के संक्रमित होने से हुई है।
स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का कहना है कि हफ्ते भर पहले तक रोजाना करीब 22,000 जांच हो रही थी और अब यह आंकड़ा 15,000 के आसपास है।

लखनऊ में बीते गुरुवार को कोरोना के 1,491 मामले दर्ज किए गए। प्रशासन द्वारा जारी दैनिक स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, राजधानी शहर में गुरुवार को नए मामलों की तुलना में अधिक रिकवरी देखी गई। नतीजतन, बुधवार की तुलना में 1,286 मामलों की गिरावट के साथ, लखनऊ का सक्रिय कोविड केस लोड 27 जनवरी तक 13,352 था। लखनऊ में कोरोना संक्रमण की दर बीते आठ दिनों में 9% घटकर 13% के करीब आ गई है। इससे चिकित्सा विशेषज्ञों ने राहत की सांस ली है, लेकिन इसके साथ ही लोगों को चेताया भी है कि अभी कोरोना का खतरा टला नहीं है।

कोरोना के नए मामले लखनऊ में 26 दिसंबर के बाद से लगातार बढ़े हैं। हालांकि, उस महीने में संक्रमण की दर 1% से भी कम थी। जनवरी के पहले 10 दिनों में यह दर 10% से कम थी। इसके बाद 15 जनवरी को यह 13% हो गई। 19 जनवरी को कोरोना के 3517 नए केस मिले और उस दिन संक्रमण की दर 22% थी। इसके बाद कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है। बीते बृहस्पतिवार 27 जनवरी को 1491 नए केस मिले, जबकि 12,000 के करीब सैंपल लिए गए थे। इस लिहाज से संक्रमण दर 15 जनवरी की तरह 13% के करीब रही।

गुरुवार को शहर में किसी की मौत नहीं हुई

जबकि उत्तर प्रदेश में कोविड ​​​​के दैनिक मामले की गिनती गुरुवार को 8,901 थी, उसी दिन राज्य भर में लगभग रिकवरी रेट दोगुना रहा। महामारी की शुरुआत के बाद से, राज्य में कुल 18,93,577 रोगियों ने अपनी रिकवर होने की सूचना दी है, जिसमें अकेले गुरुवार को 16,786 मरीज शामिल हैं। नतीजतन, राज्य में सक्रिय केस लोड अब 72,393 हो गया है।

बिना लक्षण वालों की नहीं हो रही जांच

आईसीएमआर ने नई गाइडलाइन जारी करते हुए बिना लक्षण वालों की जांच करने से मना किया है। ऐसे में लखनऊ में एक हफ्ते से जांच में कमी आई है। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का कहना है कि हफ्ते भर पहले तक रोजाना करीब 22,000 जांच हो रही थी और अब यह आंकड़ा 15,000 के आसपास है। जिला सर्विलांस अधिकारी, डॉ. मिलिंद वर्धन ने बताया कि आईसीएमआर की नई गाइडलाइन के अनुसार कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में बिना लक्षण वालों की जांच नहीं की जा रही है। इस समय संक्रमण दर 13% के करीब है जो एक हफ्ते पहले 20% थी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *