पर्यावरण के संरक्षण पर ध्यान केंद्रित करते हुए यूपी में कई प्रयास किये जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने फैसला किया है कि वह पेड़ों को काटने के बजाय उनका स्थान बदलेगी। हालांकि यह नियम केवल 20 साल से अधिक पुराने पेड़ों पर ही लागू होगा। इस निर्णय के अनुपालन में, राज्य वन विभाग ने मंगलवार को लखनऊ में मोहनलालगंज-गोसाईगंज मार्ग पर एक पीपल के पेड़ को दूसरे स्थान पर सफलतापूर्वक लगा दिया।

विशेष मशीनरी का उपयोग करके पेड़ को 2 किमी दूर स्थानांतरित किया गया

लखनऊ से स्थानांतरित किए गए इस पेड़ को मशीनरी की मदद से उखाड़ दिया गया, क्योंकि यह मोहनलालगंजी-गोसाईगंज क्षेत्र से गुजरने वाली सड़क को चौड़ा करने की प्रक्रिया में बाधक था। इस्तेमाल की गई विशेष मशीन न केवल पेड़ को उसकी जड़ों और मिट्टी से खोदती है बल्कि उसे नए स्थान पर दोबारा लगाती है। 

पेड़ का नया स्थान अपने मूल स्थान से 2 किलोमीटर दूर है क्योंकि स्थान को जल्द से जल्द बदला जाना था, अन्यथा पेड़ इस प्रक्रिया से बच नहीं सकता था। उत्तर प्रदेश के वन मंत्री सहित अधिकारियों और उच्च अधिकारियों की उपस्थिति में इस प्रक्रिया को पूरा किया गया था।

इस नीति के आने से, विकास परियोजनाओं के कारण हर साल काटे जाने वाले सैकड़ों पेड़ अब बच जाएंगे, जिससे ऐसे सभी प्रयास पर्यावरण के अनुकूल हो जाएंगे। उत्तर प्रदेश के वन मंत्री का यह कहना है- “हम हर साल करोड़ों पेड़ लगा रहे हैं और अगर हम मौजूदा पेड़ों को बचा सकते हैं, तो यह वन संरक्षण में एक लंबा रास्ता तय करेगा।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *