मुख्य बिंदु:

– शहर के सरकारी अस्पतालों के परिसरों को अतिक्रमण मुक्त बनाने के लिए अभियान शुरू किया जाएगा।

– इसके तहत, अस्पतालों के प्रवेश द्वार के आसपास लगभग 40 से 50 मीटर के क्षेत्र को 7 दिनों के भीतर किसी भी तरह के अतिक्रमण से मुक्त किया जाएगा।

– लखनऊ नगर निगम शहर की सड़कों और चौराहों से अनाधिकृत होर्डिंग हटाने के उपायों पर भी काम करेगा।

शहर के सरकारी अस्पतालों के परिसरों को अतिक्रमण मुक्त बनाने के लिए, लखनऊ के जिला प्रशासन ने एक विशेष अभियान शुरू किया है। इस पहल के तहत, सार्वजनिक अस्पतालों के प्रवेश द्वार के आसपास लगभग 40 से 50 मीटर के क्षेत्र को 7 दिनों के भीतर किसी भी तरह के अतिक्रमण से मुक्त किया जाएगा। साथ ही नगर निगम शहर में अवैध होर्डिंग, बैनर/पोस्टर को हटाने के लिए भी कदम उठाएगा।

अस्पताल के प्रवेश द्वारों पर समस्याओं के समाधान के लिए कड़े कदम जरूरी

रिपोर्ट के अनुसार, जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि अस्पतालों के गेट पर एम्बुलेंस को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। प्रवेश द्वारों पर अतिक्रमण के कारण वाहनों की आवाजाही ठप हो जाती है और इससे एंबुलेंस का रास्ता भी अवरुद्ध हो जाता है। यह एक नियमित घटना बन गई है, जिससे अधिकारियों के लिए कड़े कदम उठाना आवश्यक हो गया है। कथित तौर पर, दुकानें, जूस और फल विक्रेता, छोटे समय के भोजनालय और अन्य समान प्रतिष्ठान आमतौर पर क्षेत्रों पर कब्जा करते हैं।

ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में लागू की जाएगी यह योजना

अब ग्रामीण और शहरी दोनों अस्पतालों में अतिक्रमण की परेशानी को दूर करने के लिए नवीनतम योजना शुरू की गई है। रिपोर्ट के अनुसार, लखनऊ नगर निगम (एलएमसी) और लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) शहरी क्षेत्रों में परेशानी वाले स्थानों को चिह्नित करेंगे और उन्हें 7 दिनों की अवधि के भीतर अतिक्रमण से मुक्त कर दिया जाएगा। इसके अलावा, ग्रामीण क्षेत्रों में भी इसी तरह के हस्तक्षेपों को अंजाम दिया जाएगा।

लखनऊ नगर निगम शहर की सड़कों और चौराहों से अनाधिकृत होर्डिंग हटाने के उपायों पर भी काम करेगा। इस अभियान के तहत व्यक्तियों की एक टीम क्षेत्रों का पता लगाएगी और फिर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। यहां, यह स्वीकार करना महत्वपूर्ण है कि स्थानीय शासी निकायों को प्रचलित समस्यायों पर नजर रखनी चाहिए। समस्याओं के समाधान के लिए सक्रिय कदम उठाने पर ही नागरिकों का कल्याण सुनिश्चित हो सकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *