लखनऊ वासियों को बिजली की अघोषित कटौती का सामना करना पड़ रहा है, कहीं अघोषित कटौती की समस्या है तो कहीं बिजली सप्लाई में फॉल्ट हो रहे है जिसकी वजह से शहर के लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इन्ही सारी समस्याओं को देखते हुए लखनऊ में विद्युत आपूर्ति को बेहतर ढंग से बनाये रखने के लिए बिजली विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। लखनऊ में अब अगर किसी इलाके की बिजली किसी भी कारण गुल होती है तो कंट्रोल रूम में अलार्म बजने लगेगा। इसकी आवाज सुनकर कंट्रोल रूम के अफसर समझ जाएंगे कि कीसी इलाके की बजली सप्लाई फेल हो गई है। रीयल-टाइम डेटा अधिग्रहण प्रणाली (Real-Time Data Acquisition Systems) का यह कंट्रोल रूम गोखले मार्ग स्थित मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के मुख्यालय में इसी साल खुलेगा।

उपभोक्ताओं को बिजली बाधित होने का कारण बताया जाएगा 

उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन की इंटीग्रेटेड पावर डेवलपमेंट स्कीम (आईपीडीएस) के तहत यह नया सिस्टम पशिचमांचल विधुत वितरण निगम मेरठ की तर्ज पर मध्यांचल निगम में खोलने की तैयारी शुरू हो गई है। इसकी जिम्मेदारी अधीक्षण अभियंता अशोक सुंदरम को सौंपी गई है। कॉर्पोरेशन ने काम की जिम्मेदारी इलेक्ट्रिकल की बड़ी कंपनी को सौंपी है। इस कंट्रोल रूम से ट्रिपिंग, उसका समय, कारण, लो एंव हाई वोल्टेज का पता चलेगा। इस कंट्रोल रूम का कनेक्शन कॉल सेंटर 1912 से भी होगा, जिससे उपभोक्तओं की शिकायत पर बिजली फेल होने का कारण भी बताया जा सकेगा। 

इसके साथ ही कंट्रोल रूम में अलार्म फीडर रिमोट टर्मिनल यूनिट के जरिये ही बजेगा। मॉडल सिस्टम पर आधारित इस फीडर रिमोट को उपकेंद्र के हर 11 केवी फीडर पर लगाया जाएगा। इससे उपकेंद्र से बिजली सप्लाई बंद होते ही कंट्रोल रूम को सुचना पहुंच जाएगी। इसके बाद अधिकारी बिजली चालु करवाएंगे।

एक कंट्रोल रूम से पूरे जिले की बिजली आपूर्ति पर रहेगी नजर 

इस सिस्टम के जरिये कंट्रोल रूम को आसानी से फीडर पर चले रहे वोल्टेज की जानकारी मिलेगी। इससे अफसरों को पता चलेगा कि उपभोक्ताओं को मानक से कम या फिर अधिक वोल्टेज पर करंट मिल रहा है। वोल्टेज अधिक होने पर उपकेंद्र के ऑपरेटर और अभियंताओं को अवगत कराया जाएगा।  मध्यांचल निगम के आला अफसर इस कंट्रोल रूम से पूरे जिले के बिजली सिस्टम पर नजर रख सकेंगे। पता लगा सकेंगे कि किस फाल्ट से सप्लाई में व्यवधान आया। इसके लिए नोडल अधिकारी और अन्य स्टाफ तैनात होगा। मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, सूर्यपाल गंगवार ने बताया कि मेरठ विद्युत वितरण निगम मुख्यालय की तर्ज पर मध्यांचल मुख्यालय पर भी कण्ट्रोल रूम बनकर इसी साल चालू होगा। यह उपभोक्ता सेवाओं के लिए बहुत हितकारी साबित होगा। इससे निर्बाध बिजली सप्लाई हो सकेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *