पेपर मिल कॉलोनी में सड़क के बीचों बीच लगे बिजली के खंभे जानलेवा बन चुके हैं, नगर निगम ने 1.5 किलोमीटर लंबी सड़क को चौड़ा कर दिया लेकिन लेसा ने बिजली के खंभो को शिफ्ट नहीं किया था। लेकिन अब इलाके के लोगों की मांग पर और इस रूट पर चलने वाले राहगीरों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सड़क के बीचों बीच लगे बिजली के खंभे शिफ्ट किये जाएंगे। साथ ही जर्जर बिजली के तारों को बदला जाएगा।

मध्यांचल निगम के एमडी सूर्यपाल गंगवार ने लेसा के मुख्य अभियंता से टेंडर प्रक्रिया पूरी कर एक महीने के भीतर सभी पोल शिफ्ट करने का निर्देश दिया। नगर निगम बिजली के खंभे शिफ्ट करने के लिए लेसा को 1 करोड़ रूपये भी दे चूका था। अब मध्यांचल निगम के एमडी सूर्यपाल गंगवार ने लेसा के मुख्य अभियंता से सभी पोल को शिफ्ट करने का निर्देश दिया। जिसके बाद अभियंताओं ने प्रस्ताव मध्यांचल निगम को भेज दिया है और जल्द ही इसपर काम शुरू हो जाएगा। जल्द टेंडर प्रक्रिया होते ही सभी बिजली के पोल शिफ्ट किये जाएंगे।

आये दिन राहगीर हों रहे हादसे का शिकार

आसपास के इलाके के लोगों का कहना है की यहां इन पोल की वजह से आये दिन हादसे होते रहते हैं। 1.5 किलोमीटर लंबे इस रूट पर रात में स्ट्रीट लाइट नहीं जलती, इससे तेज रफ्तार से आ रहे वाहन चालकों को खंभे नहीं दिखते हैं। स्थानीय लोगों ने कई बार अधिकारीयों से पोल शिफ्ट करने की मांग की थी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई तो लोगों ने खंभे के चरों तरफ बांस-बल्ली बांध दी ताकि लोग इससे चोटिल न हो। ऊर्जा विभाग के नियमानुसार सड़क किनारे डेढ़ मीटर की दूरी पर बिजली का खंभा लगाया जाता है। इसके अलावा दो विद्युत खंभों के बीच 40 मीटर की दूरी होनी चाहिए। खंभों ऊंचाई 9 मीटर और 12 मीटर होती है। लेकिन इस रूट पर सारे नियम कायदे दरकिनार है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *