लखनऊ में कोरोना महामारी और लॉकडाउन ने शहर को अस्त व्यस्त कर दिया था जिसके कारण लोगों को अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था। ऐसी विषम परिस्थिति में लखनऊ के कई सामाजिक संगठनों और परोपकारी लोग दूसरों की मदद के लिए आगे आये और अपनी तरफ से हर मुमकिन सहयता की ताकि लोगों को किसी चीज़ के लिए परेशानी से न गुजरना पड़े।

ऐसी ही एक सामाजिक संस्था ‘एक्शनएड’ (ActionAid Association) भी लॉकडाउन के दौरान समाज के हर वर्ग की सहायता के लिए आगे आया और अपना भरपूर योगदान जरूरतमंद लोगों को दिया। ‘एक्शनएड’ लगातार लोगों की मदद कर रहा है। एक्शनएड ने लखनऊ में करीब 500 प्रवासी कामगार, दिहाड़ी मजदूर, घरेलू कामगार, रिक्शा चालकों के परिवारों की सहायता की और सबको राशन किट वितरण किया गया, जिसमें रोजमार्रा की जरूरत और खाने पीने का सामान मौजूद था। यह राशन किट लखनऊ जिले के 20 मलिन बस्तियों में एक्शनएड की कार्यकर्ताओं द्वारा बांटा गया। इसके साथ ही ‘एक्शनएड’ (ActionAid Association) द्वारा उत्तर प्रदेश के 25 जिलों में प्रवासी कामगार, दिहाड़ी मजदूर ,घरेलू कामगार, एकल महिला परिवार व वंचित समुदाय के लिए कार्य करता है, जिसमें प्रशासन के साथ मिलकर उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों में अलग-अलग तरह से लोगों की मदद की जा रही हैं । ‘एक्शनएड’ (ActionAid Association) अपने इस परोपकारी कार्य को उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों में भी व्यापक रूप से चला रहा है जहां करीब 1500 जरूरतमंद परिवारों को उनकी जरूरत का सामान जैसे राशन आदि, संस्था द्वारा निःशुल्क बांटा गया।

लोगों की सहयता के लिए लगाया मेडिकल कैंप

‘एक्शनएड’ (ActionAid Association) जरूरतमंद लोगों को स्वस्थ सुविधा भी मुहैया करवा रही है। लोगों की सुविधा के लिए संस्था द्वारा महोबा, बहराइच, कुशीनगर, श्रावस्ती, बलरामपुर, बाराबंकी, सोनभद्र में कोविड केयर सेंटर बनाए गए, साथ ही इलाज में कोई बाधा न आये इसके लिए 265 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दिये गये। संस्था द्वारा डॉक्टरों के साथ मिलकर टेलीफोनिक हेल्पलाइन के माध्यम से करीब 1500 लोगों को लाभ पहुंचाया गया। इसके साथ ही संस्था द्वारा मेडिकल कैंप एवं कोविड वैक्सीन टीकाकरण से लगभग 4500 लोग लाभन्वित हो चुके हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *