लखनऊ यूनिवर्सिटी को बेहतर स्वछता एवं हरित परिसर बनाने के उद्देश्य से यूनिवर्सिटी परिसर के अंदर अब वाहनों के प्रवेश पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है। अब यूनिवर्सिटी परिसर के अंदर किसी को भी बिना इजाज़त के वाहन ले जाने नहीं दिया जाएगा। इस संबंध में चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर दिनेश कुमार ने गाइडलाइन जारी कर दी है और उनका कहना है कि लखनऊ यूनिवर्सिटी को स्वछता एवं हरित परिसर बनाने के उदेश्य से परिसर को नो व्हीकल जोन बनाया जा रहा है।

गाइडलाइन में साफ कहा गया कि शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारी, दिव्यांग छात्र पास के आधार पर गेट नंबर 2 से वाहन अंदर ला सकेंगे। जिन्हे पास नहीं मिला है वो अपने विभागों के पास बने स्टैंड पर वाहन खड़ा करके पैदल परिसर में आएंगे। छात्र छात्राओं को वाहन गेट नंबर 1, 2, 4 और 5 के पास स्टैंड पर खड़े करके पैदल आना होगा।

बिना कारण बाहरी लोगों का प्रवेश वर्जित रहेगा।

यूनिवर्सिटी परिसर में छात्रों, शिक्षकों और कर्मचारियों को सुरक्षित और बेहतर माहौल प्रदान करने के लिए यूनिवर्सिटी परिसर में किसी भी व्यक्ति को बिना किसी जायज कारण के प्रवेश नहीं दिया जाएगा। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अपनी गाइडलाइन में साफ तौर पर कहा है कि यूनिवर्सिटी परिसर में बिना किसी कारण के बाहरी लोगों का पप्रवेश वर्जित रहेगा। यह कदम इसलिए उठाया जा रहा है क्यूंकि ऐसा देखा गया है कि अक्सर यूनिवर्सिटी परिसर में बहार से आये लोग बैठे घुमते पाए जाते हैं, कई बार यूनिवर्सिटी परिसर में बाहरी लोगों द्वारा माहौल खराब करने की कोशिश भी की जाती है, ऐसा भविष्य में दोबारा न हो और यूनिवर्सिटी के सभी लोगों को एक सुरक्षित माहौल मिले इसलिए यह कदम उठाया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *