लखनऊ और बाराबंकी में 15 संस्थानों के साथ 'सिटी ग्रुप ऑफ कॉलेजेस' (City Group of Colleges) 2003 में अपनी स्थापना के बाद से लगातार शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्टता का प्रतीक बना हुआ है। लखनऊ के आसपास 4 अत्याधुनिक परिसरों के साथ, संस्थान फार्मेसी, पैरामेडिकल विज्ञान, मैनेजमेंट, लॉ और पॉलिटेक्निक सहित 40 से अधिक विशेष क्षेत्र पाठ्यक्रमों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। अपने क्षेत्र में एक प्रतिष्ठित नाम सिटी ग्रुप ऑफ कॉलेजेस, लखनऊ विश्वविद्यालय और उत्तर प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय से एफिलिएटेड है।

यह शिक्षण केंद्र एक एसेट एजुकेशन मॉड्यूल (asset education module) पर निर्भर करता है, जो शैक्षणिक पाठ्यक्रम से परे ज्ञान के साथ आपकी प्रोफेशनल प्रोफ़ाइल की गुणवत्ता भी बढ़ाता है, इसकी यह खासियत इसे बाकी संस्थानों से अलग बनाती है।

कॉलेज के 'हॉल ऑफ फ़ेम' में 47 दिग्गज शामिल


लखनऊ में सिटी ग्रुप ऑफ कॉलेजेस, छात्रों को प्रोफेशनल्स बनने के लिए सही अवसर और संसाधन उपलब्ध करवाता है, और यहां की लॉ एकेडमी इसका एक शीर्ष उदाहरण है। यह शिक्षा प्रणाली आधुनिक शिक्षा और क्वालिटी स्किल सेट को बढ़ाने में मदद करती है, जो यह सुनिश्चित करता है कि छात्र किताबी ज्ञान से अधिक अनुभव और प्रशिक्षण हासिल कर पाएं।


सिटी ग्रुप ऑफ कॉलेजेस, लॉ एस्पिरेंट्स को 'Enter as a Law Student, Graduate as a Judge' जैसे अवसर प्रदान करवाता है। यह संस्थान उनके प्रमुख 5-वर्षीय बी.ए. एलएलबी डिग्री कोर्स के साथ मुफ्त पीसीएस-जे और एससीएस टारगेट कक्षाएं भी प्रदान करवाता है। साथ ही उनके 'हॉल ऑफ फ़ेम' में लगभग 47 दिग्गज भी शामिल हैं, जिन्होंने ज्यूडिशियरी में अपना स्थान बनाया है। पिछले बैच में ही पीसीएस-जे की परीक्षा में लगभग 20 उम्मीदवारों का चयन किया हुआ था।

इसी तरह, कॉलेज पारंपरिक बी.कॉम डिग्री पाठ्यक्रम के साथ-साथ कई युवाओं के लिए सफलता का मार्ग प्रशस्त करते हुए मुफ्त सीए कक्षाएं भी प्रदान करता है। इन विशेष प्रावधानों के साथ उपलब्धियों की सूची लंबी है। कॉलेज ग्रुप के कई छात्र लखनऊ विश्वविद्यालय की मेरिट सूची में अच्छी रैंकिंग प्राप्त करने में कामयाब रहे हैं।

यहां छात्रों को आधुनिक शिक्षा से जोड़ा जाता है


स्मार्ट कक्षाओं और अन्य आधुनिक सुविधाओं के साथ, एक पुस्तकालय से लेकर हाई-टेक प्रयोगशालाओं तक, कॉलेज अपने छात्रों को आधुनिक शिक्षा प्रणाली उपलब्ध करवाता है। जहां तक ​​डिजिटल एजुकेशन की बात है, कॉलेज की विभिन्न शाखाओं में 2000 से अधिक कंप्यूटर सिस्टम हैं, जहां लखनऊ में बीसीए छात्रों के लिए 550 कंप्यूटरों को समायोजित करने के लिए एक विशेष मंजिल तैयार की गई है। इसके साथ ही समग्र विकास के लिए साल भर सेमिनार और वर्कशॉप चलाए जाते हैं।


इसके अलावा सिटी ग्रुप ऑफ कॉलेजेस में महिला आत्मरक्षा और सुरक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य होते रहते है। नतीजतन, अधिकारियों ने कॉलेज में महिलाओं के लिए मासिक कार्यशाला आयोजित करने के लिए यश-भारती पुरस्कार प्राप्तकर्ता प्रशिक्षक अभिषेक को इस काम में लगाया है। यह छात्रों के मनोबल को बढ़ाता है और उनकी समग्र विकास को बढ़ावा देता है।


यह संस्थान ग्रामीण क्षेत्रों के लिए विशेष कार्यक्रम भी चलाता है, जहां कई गैर सरकारी संगठन उन बच्चों के लिए शैक्षिक कार्यक्रमों की शुरुआत करते हैं जिनके पास संसाधनों की कमी है। छात्र वॉलंटियर्स सृष्टि और दर्पण फाउंडेशन जैसे शैक्षिक संस्थान के साथ पंजीकृत संगठनों के माध्यम से इन कार्यों का संचालन करते हैं। कॉलेज ने जून 2021 के दूसरे सप्ताह तक एक विशेष अस्पताल शुरू करने की भी योजना बनाई है, जो शिक्षा से परे सुविधाओं के दायरे का विस्तार करेगा।