मुख्य बिंदु

लगातार शेयर मार्केट में आई गिरावट के चलते लखनऊ के निवेशकों के 500 करोड़ रुपए डूब चुके हैं।
जनवरी के महीने में ही बीएसई सूचकांक 62,245 से 57,276 तक निचे आ चूका है।
अमेरिकी फेडरल रिज़र्व के संकेत के बाद बीते गुरुवार को मार्केट खुलते ही अफरातफरी मच गई।
जैसे ही ट्रेडिंग के लिए मार्केट खुला सेंसेक्स 1000 अंक निचे आ गया और शाम को 581 अंको की गिरावट के साथ बंद हुआ।
कानपुर में 5500 निवेशकों ने अपना स्टॉक बेच दिया जिसके चलते कानपुर के निवेशकों को 6200 करोड़ का वित्तीय झटका लगा।

28.01.2022 – Closing Sensex Update

पिछले कुछ दिनों से लगातार शेयर मार्केट में हो रही गिरावट के चलते लखनऊ के निवेशकों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। 17 जनवरी से अब तक बीएसई सूचकांक सेंसेक्स 4000 पॉइंट से निचे आ चूका है। बीते गुरुवार को भी शेयर मार्केट में भारी गिरावट दर्ज हुई है। लगातार शेयर मार्केट में आई गिरावट के चलते लखनऊ के निवेशकों के 500 करोड़ रुपए डूब चुके हैं। देखा जाए तो एक महीने के न्यूनतम स्तर पर सेंसेक्स 581 अंक टूटकर 57,276.94 अंक पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 125 अंक की गिरावट के साथ 17,152 के स्तर पर बंद हुआ। साथ ही जनवरी के महीने में ही बीएसई सूचकांक 62,245 से 57,276 तक निचे आ चूका है और निवेशकों को डर है कि शेयर मार्केट और निचे जाएगा।

27.01.2022 – Closing Sensex Update

मार्केट एक्सपर्ट्स की माने तो लखनऊ में सीधे शेयर बाजार में पैसा लगाने वालों की संख्या कम है। ज्यादातर निवेशक म्यूच्यूअल फंड में ही पैसा लगाते हैं। इसलिए यहां के लोगों का नुकसान थोड़ा कम हुआ है। एवोक इंडिया के संस्थापक प्रवीण कुमार द्विवेदी के अनुसार शेयर मार्केट में बिकवाली का असर उन शहरों पर ज्यादा पड़ा जहां ट्रेडिंग अधिक होती है। यहां लॉन्ग टर्म निवेशक है और यह इन्वेस्टर अधिक है ट्रेडिंग में कम हैं।

कानपुर के निवेशकों को लगा 6200 करोड़ का झटका

शेयर मार्केट में आई गिरावट के चलते कानपुर के निवेशकों को भी भारी नुकसान हुआ है। अमेरिकी फेडरल रिज़र्व के संकेत के बाद बीते गुरुवार को मार्केट खुलते ही अफरातफरी मच गई। जैसे ही ट्रेडिंग के लिए मार्केट खुला सेंसेक्स 1000 अंक निचे आ गया और शाम को 581 अंको की गिरावट के साथ बंद हुआ। पूरे मार्केट सेशन के दौरान 1300 अंको के उतार चढ़ाव से निवेशक डर गए और इसका असर ये हुआ कि कानपुर में 5500 निवेशकों ने अपना स्टॉक बेच दिया जिसके चलते कानपुर के निवेशकों को 6200 करोड़ का वित्तीय झटका लगा।

ऐसा इसलिए हुआ क्यूंकि अमरीकी सेंट्रल बैंक फेडरल रिज़र्व ने मार्च में ब्याज दरें बढ़ाने का फैसला लिया है और इसका एलान होते हुए पूरी दुनिया के बाजारों में बिकवाली होने लगी थी जिसका भारतीय शेयर मार्केट पर भी असर देखने को मिला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 कंपनियों का इंडेक्स सेंसेक्स कारोबार बंद होने पर 581. 21 अंक गिरकर 57,276.94 अंक पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी 50 सूचकांक पर भी यही देखने को मिला और यह 167.80 अंक गिरकर 17,110 पर बंद हुआ। शेयर मार्केट के एक्सपर्ट्स की माने तो अभी गिरावट का दौर जारी रहेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *