जरूरी बातें

दास्तानगो हिमांशु बाजपेई को साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार 2021 से सम्मानित किया गया।
उन्हें यह पुरस्कार उनकी पहली पुस्तक ‘किस्सा-किस्सा लखनऊवा -लखनऊ के अवामी किस्से ‘ के लिए मिला है।
हिमांशु बाजपेई पेशे से पत्रकार भी रह चुके हैं।
हिमांशु बाजपेई ने वेब सीरीज़ ‘सेक्रेड गेम्स ‘ में भी किया है कैमियो रोल।
हिमांशु बाजपेई ने अपनी इस उपलब्धि को लखनऊ और अपने गुरु को समर्पित किया।

हर एक व्यक्ति अपने पास अनेकों किस्से समेटे होता है। लेकिन ऐसे बहुत कम लोग होते हैं जो इन किस्सों को दूसरों तक पहुंचा पाते है और उनके दिलों में जगह बना पाते हैं। ऐसे ही एक दास्तानगो है हिमांशु बाजपेई, जिन्हे हाल ही में साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार 2021 से नवाजा गया है। हिमांशु बाजपेई जो लखनऊ से तआल्लुक रखते हैं और उन्हें यह पुरस्कार उनकी पहली पुस्तक ‘किस्सा-किस्सा लखनऊवा -लखनऊ के अवामी किस्से ‘ के लिए मिला है। उनकी इस किताब में लखनऊ से जुड़ी तमाम कहानियां हैं जिसे उन्होंने अपने लखनवी अंदाज़ और उर्दू अल्फ़ाज़ में पेश किया है।

दास्तानगोई में हैं माहिर

दास्तानगो हिमांशु बाजपेई का जन्म लखनऊ में हुआ और इसी शहर की तहज़ीब और नज़ाकत के बीच वह पले बढ़े हैं। हिमांशु की रूचि शुरू से ही लोगों को किस्से कहानी सुनाने में रही। उन्होंने पीएचडी की है और उनकी डॉक्टरेट थीसिस लखनऊ के नवल किशोर प्रेस पर थी जो 19वीं और 20वीं सदी का भारत का सबसे बड़ा प्रिंटिंग प्रेस था। जिसने हिंदी और उर्दू साहित्य के सबसे बड़े क्लासिक्स को छापा था।

साथ ही वह पेशे से पत्रकार भी रहे हैं और दैनिक भास्कर, आकाशवाणी और तहलका के साथ काम किया है। हिमांशु बाजपेई दास्तानगोई जो एक उर्दू में मौखिक कहानी कहने का मध्ययुगीन रूप है, उसके एक प्रसिद्ध कलाकार हैं। उन्होंने लखनऊ और उसकी संस्कृति पर कई सारे किस्से और कहानियाँ लिखीं हैं जो लोगों को बहुत प्रिय हैं।

वेब सीरीज़ में भी किया है काम

नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई ब्लॉकबस्टर वेब सीरीज़ ‘सेक्रेड गेम्स’ में हिमांशु बाजपेई ने अपने कैमियो के लिए भी जनता से ढेर सारी प्रशंसा बटोरी। साथ ही उन्होंने ‘मधुबन का नन्हा मोर’ और ‘नॉर्थवे का युद्ध’ किताबों का हिंदी में अनुवाद भी किया है। इसके अतिरिक्त नव भारत टाइम्स के साथ उनका कॉलम ‘लखनऊवा’ एक अत्यंत लोकप्रिय श्रृंखला रही। उन्होंने अपनी पहली पुस्तक ‘किस्सा-किस्सा लखनऊवा -लखनऊ के अवामी किस्से ‘ लिखी। जिसे भी लोगों द्वारा बहुत प्यार मिला और उसी के लिए साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार 2021 का सम्म्मान भी मिला। यह सम्मान पाकर उन्होंने अपनी इस उपलब्धि को लखनऊ और अपने गुरु को समर्पित किया।

Read this story in English – Himanshu Bajpai scripts golden dastan for Lucknow, wins Sahitya Akademi Award 2021!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *