ज़रूरी बातें !

सीडीआरआई ने दिल के दौरे और स्ट्रोक जैसी बीमारी के लिए नई दवा ख़ोज निकाली है।
इस दवा से धमनी में जमे खून के थक्के को साफ़ किया जा सकेगा।
अभी तक हुए प्रयोग में यह दवा बिना किसी साइड इफेक्ट के सुरक्षित साबित हुई है।
दवा के क्लीनिकल ट्रायल को मंज़ूरी मिल चुकी है।
मार्क लेबोरेट्रीज दवा को निर्मित कर बाज़ार में जल्द ही उपलब्ध करायेगी।

केंद्रीय औषधि अनुसंधान संस्थान (सीडीआरआई) ने दिल के दौरे और स्ट्रोक जैसी बीमारी के लिए नई दवा ख़ोज निकाली है। वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की प्रयोगशाला केंद्रीय औषधि अनुसंधान संस्थान (सीडीआरआई) ने एस-007-867 नामक सिंथेटिक यौगिक विकसित किया है। यह दवा इसी सिंथेटिक यौगिक से तैयार करी गई है।

अभी तक हुए प्रयोग में यह दवा बिना किसी साइड इफेक्ट के सुरक्षित साबित हुई है। जिसके बाद इसके क्लीनिकल ट्रायल को मंज़ूरी मिल चुकी है। सीडीआरआई ने दवा निर्माण के लिए सिंथेटिक यौगिक एस-007-867 के विकास की तकनीक, मार्क लेबोरेट्रीज को दे दी है। जिससे मार्क लेबोरेट्रीज दवा को निर्मित कर बाज़ार में उपलब्ध करायेगी।

धमनी में जमे खून के थक्के को साफ़ करेगी दवा

दिल में जमे ख़ून के थक्कों के कारण दिल का दौरा और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन सीडीआरआई द्वारा विकसित करी गयी दवा से धमनी में जमे खून के थक्के को साफ़ किया जा सकेगा। साथ ही मरीज़ में खून के प्रवाह को दुरुस्त रखने में मदद मिलेगी। जंतुओं पर किए गए प्रयोग में इस दवा के यौगिक ने न्यूनतम रक्तस्राव के साथ देखभाल के प्रचलित मानकों की तुलना में बेहतर एंटी थ्रोंबोसिस गुण प्रदर्शित किए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *