जरूरी बातें

लखनऊ जिला प्रशासन ने लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर सुरक्षा बढ़ाने के लिए जारी किये दिशा-निर्देश।
एयरपोर्ट पर चौबीसों घंटे निगरानी रखने और लैंडिंग या टेक-ऑफ के दौरान होने वाली घटनाओं को रोकने के लिए की जाएगी विशेष दल की तैनाती।
एयरपोर्ट के आसपास सभी मीट की बिक्री करने वाली दुकानें की जाएंगी बंद।
एयरपोर्ट के आसपास खुले में कचरे और जानवरों के अवशेषों का किया जायेगा उचित प्रबंध।

पिकअप और ड्रॉप के वक़्त यात्रियों को कोई परेशानी ना हो इसके लिए गेट के पास बनाई गई दूसरी सर्विस लेन।

लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे की सुरक्षा बढ़ाने के लिए लखनऊ जिला प्रशासन ने कई दिशा-निर्देश जारी किये हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, अमौसी एयरपोर्ट पर चौबीसों घंटे निगरानी रखने और लैंडिंग या टेक-ऑफ के दौरान होने वाली किसी भी तरह की अनियमितताओं को रोकने के लिए एक विशेष दल की तैनाती की जाएगी। मंडलायुक्त रंजन कुमार ने एयरपोर्ट के रनवे पर उड़ानों के सुचारु संचालन को बनाये रखने के लिए आसपास के क्षेत्र में किसी भी तरह की बाधा या आवारा जानवरों से बचाव करने पर विशेष जोर दिया है।

एयरपोर्ट पर आवारा जानवरों से बचाव के लिए बढ़ाई गई सुरक्षा

 अमौसी एयरपोर्ट के पास आवारा पशुओं के कारण कई बार दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। एयरपोर्ट पर सुरक्षा व्यवस्था के संबंध में पर्यावरण प्रबंधन की एक बैठक के दौरान इस मुद्दे की समीक्षा की गई, जहां मंडलायुक्त रंजन कुमार ने अधिकारियों को एयरपोर्ट के आसपास के क्षेत्र की निगरानी बढ़ाने का निर्देश दिया है।

इस प्रोटोकॉल के तहत लखनऊ एयरपोर्ट के आस पास मौजूद सभी मीट की बिक्री करने वाली दुकानें बंद की जाएंगी। एयरपोर्ट के आसपास खुले में कचरे और जानवरों के अवशेषों का उचित प्रबंध किया जायेगा क्योंकि ये चीजें अन्य पक्षियों को आकर्षित करती हैं जिस कारण हवाई यातायात में बाधा उत्पन्न होती है। अधिकारियों को जानवरों के कारण होने वाली किसी भी दुर्घटना को रोकने के लिए सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं।

अधिकारियों को एयरपोर्ट के क्षेत्र में खाद्य दुकानों पर सुरक्षा मानकों की नियमित जांच करने का भी ज़िम्मा सौंपा गया है। इसके तहत एयरपोर्ट के संचालन में बाधा डालने वाली किसी भी तरह की प्रणाली को ध्वस्त कर दिया जाएगा और कोई भी चूक होने पर तत्काल कार्रवाई करी जाएगी।

एयरपोर्ट पर पिकअप और ड्रॉप के लिए बनाई गई दूसरी सर्विस लेन

लखनऊ एयरपोर्ट पर यात्रियों की बढ़ती संख्या के कारण उड़ानों की संख्या भी 100 के करीब पहुंच गई है, जो कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद से सबसे अधिक है। अधिक यातायात के कारण अक्सर एयरपोर्ट के पास वाहनों से भीड़भाड़ उत्पन्न हो जाती है जिस वजह से एयरपोर्ट पर पिकअप और ड्रॉप सेवाओं में बाधा उत्पन्न होती है।

पिकअप और ड्रॉप के वक्त यात्रियों को कोई परेशानी ना हो इसके लिए गेट के पास दूसरी सर्विस लेन बनाई गई है। दूसरी लेन मुख्य रूप से टैक्सी में आने वाले यात्रियों के लिए निर्मित की गई है और पहली लेन निजी वाहनों के उपयोग के लिए है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *