ज़रूरी बातें !

20 दिसंबर से कानपुर मेट्रो स्टेशन पर उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (यूपीएसएसएफ) के 250 जवान तैनात किए जाएंगे।
प्राइवेट सिक्योरिटी कंपनी के 150 जवान भी सुरक्षा व्यवस्था संभालेंगे।
इन स्पेशल सुरक्षा दस्तों को विशेष अधिकार प्रदान किए गए हैं।
यह सुरक्षा दस्ता किसी भी व्यक्ति की बिना वारंट के तलाशी व गिरफ्तारी कर सकता है।
मेट्रो के संचालन से पहले केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) की टीम मेट्रो स्टेशन के पूरे रूट का करेगी सिक्योरिटी चेक।

आगामी 28 दिसंबर को कानपुर मेट्रो के संचालन को शुरू किया जायेगा, जिसके तहत 20 दिसंबर से कानपुर मेट्रो स्टेशन पर सुरक्षा के लिहाज़ से उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (यूपीएसएसएफ) के 250 जवान तैनात किए जाएंगे। इस सुरक्षा दस्ते को प्रदेश सरकार से कई विशेष पावर प्रदान करी गईं हैं। इसके अतिरिक्त कानपुर मेट्रो स्टेशन पर प्राइवेट सिक्योरिटी कंपनी के 150 जवान भी सुरक्षा व्यवस्था संभालेंगे।

यह होंगी सुरक्षा दस्ते की ख़ास शक्तियां

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सितंबर 2020 में कोर्ट, धार्मिक स्थलों, विशेष प्रतिष्ठानों की सुरक्षा के लिए स्पेशल फोर्स का गठन किया था जिसके तहत इन स्पेशल सुरक्षा दस्तों को विशेष अधिकार प्रदान किए गए हैं। यह सुरक्षा दस्ता किसी भी व्यक्ति की बिना वारंट के तलाशी व गिरफ्तारी कर सकता है। किसी व्यक्ति ने धारा-10 के अंतर्गत कोई अपराध किया है तो सुरक्षा दस्ता उसे तुरंत गिरफ्तार कर सकता है। इसी के साथ ही किसी अपराधी के भागने या छिपने की आशंका है तो यह दस्ता उस अपराधी की तत्काल गिरफ्तारी कर सकता है।

संचालन से पहले मेट्रो स्टेशन के पूरे रूट का होगा सिक्योरिटी चेक

मेट्रो के संचालन से पहले केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) की टीम मेट्रो स्टेशन के पूरे रूट का सिक्योरिटी चेक करेगी और सुरक्षा का पूरा खाका भी तैयार करेगी। 25 दिसंबर तक कानपुर मेट्रो को कमिश्नर रेलवे आफ सेफ्टी (सीआरएस) से एनओसी (NOC) मिलने की संभावना है जिसके बाद मेट्रो के संचालन को 28 दिसंबर के लिए हरी झंडी मिल जाएगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *