ज़रूरी बातें !

कानपुर में 100 से ज्यादा जगहों पर अंडरग्राउंड कूड़ाघर बनाये जाएंगे।
अभियान के पहले चरण में 50 अंडरग्राउंड कूड़ाघर बनाए जाएंगे।
एक अंडरग्राउंड टैंक में 15 टन तक कूड़ा आ जाएगा।
150 हॉपर ट्रिपर की भी ख़रीद करी जायेगी।

कानपुर में सड़कों पर बिखरे कूड़े पर अंकुश लगाने के लिए पूरे शहर में 100 से ज्यादा जगहों पर अंडरग्राउंड कूड़ाघर बनाये जाएंगे। इन अंडरग्राउंड कूड़ाघरों के बन जाने से सड़कों पर एक भी कूड़ाघर दिखाई नहीं देगा। इस अभियान के पहले चरण में 50 अंडरग्राउंड कूड़ा घर बनाए जाएंगे। इन अंडरग्राउंड कूड़ाघरों से कूड़े को उठाने के लिए आधुनिक मशीनों का उपयोग किया जायेगा। जिसके तहत 150 हॉपर ट्रिपर की भी ख़रीद करी जायेगी।एक अंडरग्राउंड टैंक में 15 टन तक कूड़ा आ जाएगा। स्मार्ट सिटी नोडल प्रभारी आरके सिंह ने बताया कि, “काम्पैक्टर में कूड़ा लोड करने के बाद अंडरग्राउंड टैंकों में उसी जगह बड़े डस्टबिन रखे जाएंगे।”

लोगों को गंदगी और बदबू से मिलेगी मुक्ति

शहर में अंडरग्राउंड कूड़ाघर बन जाने से जानवर और कूड़ा बीनने वाले कूड़ाघर तक नहीं पहुंच पाएंगे। अभी जिन वाहनों या ठेलों से कूड़ा अड्डों में कूड़ा फेंका जाता है, उस पर नगर निगम का नियंत्रण नहीं रहता है। सुबह जब गाड़ियों से कूड़े का उठान हो जाता है तो भी दोपहर तक कूड़ा फेंकने वालों पर अंकुश नहीं रहता। जिस वजह से लोगों को सड़कों पर गंदगी और बदबू का सामना करना पड़ता है। अभी तक शहर में संगीत टॉकीज, जीटी रोड, किदवई नगर, फजलगंज, श्याम नगर आदि जगहों पर कूड़े के कारण लोगों को दिक़्क़तों का सामना करना पड़ता है। साथ ही यातायात भी बाधित रहता है। लेकिन अंडरग्राउंड कूड़ाघर बन जाने से इन सारी दिक़्क़तों ने निजात मिल सकेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *